Home /News /rajasthan /

गाय-नंदी मखमली कंबल ओढ़कर सोते हैं पलंग पर, ट्रेनिंग ऐसी कि घर में नहीं करते गोबर

गाय-नंदी मखमली कंबल ओढ़कर सोते हैं पलंग पर, ट्रेनिंग ऐसी कि घर में नहीं करते गोबर

Unique story of Cow: जोधपुर की संजू कंवर घर में कुल 3 गाय और एक बछड़ा है. बछड़े की उम्र 1 साल है. इस बछड़े का नाम उन्होंने पृथु रख रखा है.

Unique story of Cow: जोधपुर की संजू कंवर घर में कुल 3 गाय और एक बछड़ा है. बछड़े की उम्र 1 साल है. इस बछड़े का नाम उन्होंने पृथु रख रखा है.

Unique Cow House in Jodhpur: जोधपुर हाउसिंग बोर्ड इलाके के सुभाष नगर निवासी प्रेम सिंह कच्छवाह के परिवार की गौ भक्ति देखकर हर कोई हैरान रह जाता है. इनके घर में 3 गाय और एक बछड़ा पारिवारिक सदस्य की तरह रहते हैं. बछड़े की उम्र 1 साल है और नाम है पृथु. पृथु और गायें बेहद लग्जरी लाइफ जी रहे हैं. सभी ना केवल साफ सुथरे पलंग पर सोते हैं बल्कि वे सर्दी में मखमली कंबल भी ओढ़ते हैं. दिनभर परिवार के सदस्यों की तरह में कमरों में घूमते हैं. मालिक का दावा है कि ये बिस्तर भी गंदा नहीं करते हैं. इसके लिए उन्होंने बकायदा सभी गोधन को ट्रेनिंग दे रखी है.

अधिक पढ़ें ...

जोधपुर. अभी तक आपने ऐसे कई घर देखे होंगे जहां घर के लोगों के साथ पलंग पर कुत्ते और बिल्लियां (Dogs and Cats) सो रही होती हैं. कुत्ते और बिल्ली को पालना लोग अपनी शान समझते हैं. लेकिन आपने कभी कल्पना भी नहीं की होगी कि राजस्थान के जोधपुर में एक ऐसा घर भी है जहां गाय और बैल (Cow and Bull) पलंग पर बड़े इत्मीनान से सोते हैं. इस घर में गाय और बैल भगवान के रूप में पूजे जाते हैं. उनके साथ परिवार के सदस्यों का एक अनोखा रिश्ता है. गो भक्ति के नाम पर कई धनाढ्य लोग लाखों रुपए दान करते हैं कुछ लोग टीवी पर डिबेट करते भी देखे जा सकते हैं लेकिन असल गौ भक्ति क्या होती है ? इसे आप जोधपुर के इस घर में देख सकते हैं.

जोधपुर के हाउसिंग बोर्ड इलाके के सुभाष नगर निवासी प्रेम सिंह कच्छवाह और उनकी पत्नी संजू कंवर की गौ भक्ति को देखकर हर कोई हैरान रह जाता है. इनके घर में गाय एक पशु नहीं बल्कि पारिवारिक सदस्य की तरह रहती है. इनके घर में कुल 3 गाय और एक बछड़ा है. बछड़े की उम्र 1 साल है. इस बछड़े का नाम उन्होंने पृथु रख रखा है. संजू कंवर ने बताया कि सुबह वे अपने बछड़े को चारा खिलाकर स्नान करा देती हैं. उसके बाद जैसे ही वह सूख जाता है वह सीधा भागकर कमरे में जाकर पलंग पर चढ़ जाता है. वहां पर करीब 2 घंटे विश्राम करता है. इस दौरान वह बड़े आराम से धीरे धीरे जुगाली करता रहता है.

बिस्तर पर नहीं करते गंदगी
संजू कंवर ने बताया कि उनके घर में रहने वाली गौमाता और नंदी महाराज बिस्तर पर सोते जरूर है लेकिन उन्हें यह पता है कि गोबर कहां करना है और पेशाब कहां करना है. जब उन्हें इस चीज का आभास होता है तो वहां से उठकर निर्धारित जगह पर जाकर गोबर और पेशाब करते हैं. इसके लिए उन्होंने बकायदा सभी गोधन को ट्रेनिंग दे रखी है.

बछड़े को इसलिए नहीं निकाला घर के बाहर
संजू कंवर का कहना है कि लोग गाय से सिर्फ एक ही मतलब रखते हैं दूध लेने का जबकि गाय हमारे शास्त्रों के अनुसार सबसे पूजनीय है. इनके शरीर में 33 कोटि देवी देवता निवास करते हैं. लेकिन आजकल के लोग गायों को तो पालते हैं लेकिन नंदी महाराज को घर से निकाल देते हैं. इसके बाद वे कत्लखाने तक पहुंच दिये जाते हैं. इसी डर के चलते उन्होंने अपने पृथु को घर से बाहर नहीं निकाला.

राष्ट्रीय पशु का मिले दर्जा
संजू कंवर ने सरकार से मांग की है कि गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करें. वर्तमान समय में खेती में बैलों का उपयोग नहीं होता हैं. ऐसे में लोग इन्हें छोड़ देते हैं. उन्होंने लोगों से अपील की है कि घर में गाय जरूर पालें. इससे नकारात्मकता खत्म होती है. उन्होंने कहा कि गाय पालने के बाद ही आपको समझ आएगा कि किस प्रकार से वह नकारात्मकता को खत्म कर देती है. बकौल संजू कंवर हमारे घर में सकारात्मकता ही देखने मिलेगी. उन्होंने कहा कि देश ही नहीं दुनियाभर के लोग उन्हें जानते हैं तो उसके पीछे सबसे बड़ी वजह गौमाता है. क्योंकि उनकी वजह से ही उनको यह तवज्जो मिलती है.

काऊ हाउस के नाम से जाना जाता है यह घर
दरअसल साल भर पहले संजू कंवर के घर पर नगर निगम की टीम पहुंची थी. उन्होंने उनकी गायों को सीज कर लिया. उसके बाद उन्होंने गायों को घर के अंदर पालना शुरू कर दिया. धीरे-धीरे लोगों तक यह बात पता चलती गई कि इनके घर में गाय बच्चे की तरह रहती है तो इस घर को लोग ‘काऊ हाउस’ उसके नाम से जानने लग गये.

Tags: Cow, Jodhpur News, Rajasthan latest news, Rajasthan news in hindi, Rajasthan News Update

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर