Home /News /rajasthan /

मेरा बेटा कहता था कि कश्मीर में कुछ भी हो सकता है, लौटकर आऊंगा तभी शादी करूंगा

मेरा बेटा कहता था कि कश्मीर में कुछ भी हो सकता है, लौटकर आऊंगा तभी शादी करूंगा

शहीद रमेश कुमार की शवयात्रा में शामिल हुई सैकड़ों लोग. फोटो-(ईटीवी)

शहीद रमेश कुमार की शवयात्रा में शामिल हुई सैकड़ों लोग. फोटो-(ईटीवी)

कर चले हम फिदा जानो तन साथियों, अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों का गीत जब बजा तो हजारों लोगों की आंखें नम हो गईं.

    कर चले हम फिदा जानो तन साथियों, अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों का गीत जब बजा तो हजारों लोगों की आंखें नम हो गईं.

    एक तरफ लोगों का आतंकवादियों और पाकिस्तान के लिए गुस्सा तो दूसरी ओर आतंकवादियों से देश की रक्षा करते हुए रमेश कुमार के शहीद होने का गर्व भी था.

    सिरोही जिले के रेवदर के समीप नागाणी गांव के सपूत रमेश कुमार की पार्थिव शरीर तिरंगे में लिपटे हुए गांव में सुबह 8 बजे पहुंचा तो हजारों लोगों की मौजूदगी में सेना के जवान, पुलिस अधिकारी स्थानीय ग्रामीण, भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए मौन की दुनिया में खो गए.

    परिवार और रिश्तेदारों का तो रो-रो कर बुरा हाल था. पूरे गांव में सन्नाटा पसर गया था. जब से शहीद होने की सूचना मिली तो पूरे गांव में घरों का चूल्हा तक नहीं जला.

    करीब दो किमी तक शवयात्रा निकाली गई, जिसमें दूर-दूर तक लोग ही लोग ही नजर आ रहे थे. सेना के जवानों ने गार्ड ऑफ ऑनर दिया और देश का सपूत पंचतत्व में विलीन हो गया. इस मौके पर गोपालन एवं देवस्थान राज्यमंत्री ओटाराम देवासी, सांसद देवजी पटेल, स्थानीय विधायक जगसीराम कोली, जिला प्रमुख पायल परसराम पुरिया, अतिरिक्त जिला कलेक्टर पीएस नागा, पुलिस अधीक्षक संदीप सिंह समेत आला अधिकारियों ने सलामी दी.

    ये भी पढ़ें

    जहरीले सांपों से डसवाता है ये युवक, वीडियो देखकर उड़ जाएंगे होश

    पिता ने बताया कि उनकी शादी भी नहीं हुई थी. हालांकि सगाई हो गई थी. वे शादी के लिए कहते थे कि कश्मीर में तैनाती में कुछ भी हो सकता है. इसलिए जब कश्मीर से लौटकर आऊंगा तभी शादी करूंगा परन्तु इससे पहले ही वे चले गए. कुछ वर्ष पूर्व रमेश कुमार चौधरी भारतीय सेना में भर्ती हुए थे.

    उनके पिता को अपने बेटे पर नाज है कि वे देश की सेवा करते हुए शहीद हो गए. रमेश कुमार चौधरी के बुजुर्ग पिता बाबाराम चौधरी तथा मां दलु देवी को अंतिम पलों में पता पड़ा कि उनका सपूत देश की रक्षा करते हुए शहीद हो गया है.

    गौरतलब है कि रमेश कुमार का पुंछ सेक्टर में आतंकवादियों से मुठभेड़ में गोली लग गई थी और वे शहीद हो गए.

    Tags: Sirohi news

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर