होम /न्यूज /राजस्थान /चमत्कारों के लिए प्रसिद्ध वीर हनुमान मंदिर में "108" के अद्भुत संयोग के चर्चे, जानें पूरी डिटेल

चमत्कारों के लिए प्रसिद्ध वीर हनुमान मंदिर में "108" के अद्भुत संयोग के चर्चे, जानें पूरी डिटेल

नागौर के डेह गांव में डेह धाम के नाम से प्रसिद्ध वीर हनुमान मंदिर अपने चमत्कारों के लिए तो प्रसिद्ध हैं.  अब डेह धाम पर ...अधिक पढ़ें

    कृष्ण कुमार/नागौर. जिस तरह माला में 108 मणिये होते हैं उसी तरह वीर हनुमान मंदिर में भी 108 खंबे रखे गए और मंदिर की लंबाई व चौड़ाई भी 108 फीट हैं. अब डेह धाम अपने चमत्कारों के साथ-साथ इस अद्भुत संयोग से भी चर्चा में हैं. नागौर से करीब 20 किलोमीटर दूर डेह धाम अपने चमत्कारों के लिए जाना जाता हैं. मंदिर मॆं महंत प्रकाश ओझा की हनुमानजी में गहरी आस्था हैं. महंत प्रकाश ओझा ने बताया कि दादा लालदास महाराज भगवान राम व हनुमानजी की भक्ति में लीन रहते थे.

    गायों की सेवा करते थे, जहां अभी मंदिर बन रहा है वहीं पर एक कैर का वृक्ष है. उसी वृक्ष के नीचे बैठकर लालदासजी भक्ति करते थे. उनकी हनुमानजी का मंदिर बनाने कि प्रबल इच्छा थी, उनकी इच्छा अब पूरी हो रही हैं. अभी जहां मंदिर बन रहा है वहीं पर 2006 में जमीन से वीर हनुमान की मूर्ति निकली थी जो बहुत पुरानी है,मूर्ति निकलने के बाद ही डेहधाम पर भक्तों का तांता लगा रहता हैं.

    माला में मणियों की तरह वीर हनुमान मंदिर में 108 का संयोग
    मंदिर के महंत प्रकाश ओझा ने बताया की माला के 108 मणियों की तरह मंदिर निर्माण में भी 108 के शुभ अंक को तवज्जो दी गई हैं. मंदिर में 108 खंभे बनाए गए हैं जिन पर छत टिकी हुई हैं. इसी तरह मंदिर की लंबाई व चौड़ाई भी 108-108 फिट हैं. मंदिर निर्माण व डेह धाम की व्यवस्था संभालने वाले व्यवस्थापक अनिल ओझा ने बताया कि पूरा मंदिर जोधपुर के छीतर पत्थर पर घड़ाई कर के बनाया जा रहा हैं. मंदिर परिसर में एक बड़ा राम दरबार बनेगा, साथ ही महावीर स्वामी , गणेश भगवान, लालदास महाराज, भगवान जंभेश्वर, व लालदास महाराज की कुलदेवी डारू माता का भी मंदिर बनाया जा रहा हैं. डेह धाम लालदास महाराज की तपोभूमि रही हैं. और लालदास महाराज हनुमान भक्त होने के साथ गो सेवा करते थे. इसके चलते गायों की सेवा के लिए गौशाला भी मनाई जाएगी.

    आस्था का केंद्र बने डेह धाम मॆं करोड़ो की लागत से बन रहा मंदिर
    डेह धाम के महंत प्रकाश ओझा ने बताया कि डेह धाम मॆं भक्तों के सहयोग से ही नया मंदिर बन रहा है जिसमें करीब 13 करोड़ की लागत आएगी. मंदिर का काफी काम हो चुका हैं. और अभी मंदिर निर्माण के कार्य को अंतिम रुप दिया जा रहा हैं.जनवरी 2023 में मंदिर मॆं मूर्ति प्राण प्रतिष्ठा का कार्यक्रम भी तय कर दिया गया हैं. 2023 में 22 जनवरी से 26 जनवरी तक मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा से जुड़े कार्यक्रम होंगें.

    प्रदेश व देशभर से आते है लोंग
    हरियाणा उत्तर प्रदेश तमिल नाडु अन्य कई राज्य प्रवासी राजस्थानियों की भी डेह धाम में गहरी आस्था हैं. बीमारियों से ग्रसित व्यक्तियों से लेकर मनोकामना लेकर लोग डेह धाम आते हैं. ऐसी आस्था है कि डेह धाम पर जो अखंड जौत जलती है , उसके दर्शन व परिक्रमा से मनोकामना पूरी होती हैं.

    Tags: Nagaur News, Rajasthan news

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें