हनुमान बेनीवाल ने यूनिवर्सिटी में जीत के बाद सरकार से मनवाई थी ये बात
Nagaur News in Hindi

हनुमान बेनीवाल ने यूनिवर्सिटी में जीत के बाद सरकार से मनवाई थी ये बात
राजस्थान यूनिवर्सिटी चुनाव जीतने के बाद हनुमान बेनीवाल.

छात्र राजनीति से शुरू हुए राजनीतिक सफर में हनुमान बेनीवाल अब तक 3 बार विधायक बन चुके हैं. इस बार नागौर लोकसभा सीट से फिर जीत का दावा पेश कर रहे हैं.

  • Share this:
राजस्थान के नागौर जिले के बरण गांव से एक जाट परिवार का लड़का नब्बे के दशक में पढ़ने-लिखने राजधानी जयपुर पहुंचता है. गांव से राजधानी तक के सफर में पढ़ाई की पहली सीढ़ी पार करने के साथ ही इस युवा के कदम राजनीति की ओर बढ़ने लगते हैं. 1995 में राजस्थान कॉलेज में प्रेसीडेंट पद पर मिली जीत के बाद उसने फिर पीछे मुड़कर नहीं देखा. हम बात कर रहे हैं खींवसर से विधायक और नागौर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रहे हनुमान बेनीवाल की. बेनीवाल राजस्थान काॅलेज में छात्रसंघ अध्यक्ष पर जीत के बाद 1996 में यूनिवर्सिटी लॉ कॉलेज और फिर 1997-98 में राजस्थान यूनिवर्सिटी के छात्रसंघ अध्यक्ष का चुनाव निर्दलीय लड़ा और जीता. इस दौरान बेनीवाल में धरना-प्रदर्शन किया, यहां तक की जेल भी गए लेकिन अंतत: ग्रामीण छात्रों के एडमिशन के लिए 5% बोनस अंक की मांग मनवाने में सफल रहे.

ये भी पढ़ें- Results 2019: राजस्थान की इन सीटों पर बीजेपी को बढ़त, कांग्रेस यहां खा रही मात!

छात्र राजनीति से शुरू हुए राजनीतिक सफर में हनुमान बेनीवाल अब तक 3 बार विधायक बन चुके हैं. इस बार नागौर लोकसभा सीट से फिर जीत का दावा पेश कर रहे हैं. बता दें कि लोकसभा चुनाव से ठीक पहले हनुमान बेनीवाल की पार्टी राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी(RLTP) से बीजेपी ने गठबंधन कर लिया है. इसी के साथ बेनीवाल ने लोकसभा चुनाव में भी BJP को समर्थन देने के साथ एक दर्जन से अधिक सीटों पर बीजेपी प्रत्याशियों का प्रचार भी किया है.



ये भी पढ़ें- लोकसभा चुनाव: राजस्थान में कांग्रेस पर भारी पड़े ये 6 धुरंधर
hanuman beniwal
हनुमान बेनीवाल लोकसभा चुनाव में बीजेपी के साथ गठबंधन कर चुनाव लड़ रहे हैं.


बीजेपी से गठबंधन से पहले बेनीवाल ने कहा था कि वे सभी 25 सीटों पर चुनाव लड़ने को तैयार हैं. यह भी कहा था कि 'राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी कांग्रेस और बीजेपी को छोड़कर अन्य दलों के साथ गठबंधन कर चुनाव मैदान में उतरेगी. इसके लिए भारतीय ट्राइबल पार्टी (BTP), बहुजन समाज पार्टी (BSP) और माकपा CPI(M) से गठबंधन को लेकर बातचीत चल रही है'. लेकिन ऐसा नहीं हुआ और बीजेपी के साथ बेनीवाल ने हाथ मिला लिया.

ये भी पढ़ें- राजस्थान: कांग्रेस पर भारी पड़ा संघ पृष्ठभूमि का ये शख्स

hanuman beniwal
दिल्ली में मंगलवार के आयोजित NDA की बैठक में हनुमान बेनीवाल शामिल हुए.


राजस्थान में RLTP का गणित?

राजस्थान विधानसभा 2018 में आरएलटीपी ने कुल तीन सीटें हासिल की हैं. बेनीवाल ने 20 सीटें जीतने का दावा किया था, हालांकि 54 सीटों पर हार का सामना करना पड़ा लेकिन केवल 20 दिन में आठ लाख से भी ज्यादा वोट हासिल करने वाली बेनीवाल की पार्टी ने बीजेपी और कांग्रेस दोनों के वोट बैंक को जबरदस्त तरीके से तोड़ने का काम किया. विधानसभा चुनाव के बाद अब लोकसभा चुनाव में भी बेनीवाल दोनों प्रमुख पार्टियों को नुकसान पहुंचा सकते हैं.

ये भी पढ़ें- Exit Poll Results 2019: पिछली बार राजस्थान में लगभग सच साबित हुए थे एग्ज़िट पोल के अनुमान

RLTP की परफॉर्मेंस रिपोर्ट

स्थापना29 अक्टूबर 2018
संस्थापकहनुमान बेनीवाल
पहला चुनावराजस्थान विधानसभा चुनाव 2018
विधानसभा चुनाव में उम्मीदवार57 सीटों पर उतारे
जीततीन सीटों पर जीत
कहां मिली जीतखींवसर, मेड़ता, भोपालगढ़ विधानसभा क्षेत्र

Loksabha Elections 2019, hanuman beniwal
हनुमान बेनीवाल. (फाइल फोटो)


ये भी पढ़ें- शादी में टेंट के पीछे गैंगरेप किया, दो भाग निकले, एक को गांव वालों ने मार डाला

कौन है हनुमान बेनीवाल?
हनुमान बेनीवाल
विधायकखींवसर, नागौर
पितारामदेव चौधरी
जन्म2/3/1972
जन्म स्थाननागौर
विवाह09/12/2009
पत्नीकनिका
संतानएक बेटी
शिक्षाबीए, एलएलबी, Dip. in Co.
व्यवसायकृषि
राजनीतितीन बार विधायक (2008, 2013 और 2018)

ये भी पढ़ें- लोकसभा चुनाव: 5वें चरण के बाद 'सबसे बड़े सट्टा बाजार' के चौंकाने वाले भाव, BJP को इतनी सीटें

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading