लाइव टीवी

नागौर: सांसद हनुमान बेनीवाल ने की रेल मंत्री पीयूष गोयल से मुलाकात, किसानों की ये मांग रखी
Nagaur News in Hindi

Mahendra Bishnoi | News18 Rajasthan
Updated: February 2, 2020, 3:22 PM IST
नागौर: सांसद हनुमान बेनीवाल ने की रेल मंत्री पीयूष गोयल से मुलाकात, किसानों की ये मांग रखी
बेनीवाल ने गोयल को बताया कि मेले में पशु खरीदने के बाद सड़क मार्ग से परिवहन के दौरान व्यापारियों को पशु क्रूरता के नाम पर जगह-जगह रोका जाता है.

राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संयोजक एवं नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल (MP Hanuman Beniwal) ने शनिवार को दिल्ली (Delhi) में रेल मंत्री पीयूष गोयल (Railway Minister Piyush Goyal) से मुलाकात की. सांसद बेनीवाल ने रेल मंत्री गोयल के समक्ष रामदेव पशु मेले (Ramdev Cattle Fair) के लिए मालगाड़ी (Goods train) चलाने की मांग रखी है.

  • Share this:
नागौर. राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संयोजक एवं नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल (MP Hanuman Beniwal) ने शनिवार को दिल्ली (Delhi) में रेल मंत्री पीयूष गोयल (Railway Minister Piyush Goyal) से मुलाकात की. सांसद बेनीवाल ने रेल मंत्री गोयल के समक्ष रामदेव पशु मेले (Ramdev Cattle Fair) के लिए मालगाड़ी (Goods train) चलाने की मांग रखी है. इसके लिए बेनीवाल ने सभी तथ्यों के साथ रेल मंत्री को लिखित में मांग-पत्र (Demand letter) सौंपा है.

देशभर के पशु व्यापारी इस मेले में आते हैं
सांसद बेनीवाल ने नागौर में चल रहे राष्ट्रीय रामदेव पशु मेले में रेल मंत्री को विस्तार में जानकारी दी. बेनीवाल ने रेल मंत्री को बताया कि इस मेले के लिए किसानों एवं पशु व्यापारी लंबे समय से मालगाड़ी चलाने की मांग कर रहे हैं. मांग-पत्र में बेनीवाल ने बताया कि नागौरी नस्ल के बैल देशभर में प्रसिद्ध हैं. ऐसे में देशभर के पशु व्यापारी इस मेले में आते हैं. कुछ साल पहले तक मेले में हजारों बैल बिकते थे, लेकिन 3 साल तक के बछड़ों की खरीद पर रोक और सड़क मार्ग से परिवहन में आने वाली बाधा के चलते मेले की रौनक खत्म हो गई है.

पशु क्रूरता के नाम पर जगह-जगह रोका जाता है



बेनीवाल ने गोयल को बताया कि मेले में पशु खरीदने के बाद सड़क मार्ग से परिवहन के दौरान व्यापारियों को पशु क्रूरता के नाम पर जगह-जगह रोका जाता है. यहां तक की कई बार मारपीट तक हो जाती हैं. हालांकि मेले में पशुओं की खरीद और बेचान की पूरी प्रक्रिया के कागजात व रवन्ना व्यापारियों के पास होते हैं, फिर भी उन्हें जगह जगह परेशानियों का सामना करना पड़ता है. इसके चलते उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश से आने वाले व्यापारी अब बैलों को खरीदने से कतरा रहे हैं. व्यापारी, पशुपालक और किसान लंबे समय से मांग कर रहे हैं कि पशुओं के परिवहन के लिए मालगाङी चलाई जाए ताकि पशुओं की सही ढंग से खरीद फरोख्त हो सके और उन्हें रास्ते में परेशानियों का सामना नहीं करना पड़े.






 

चूरू: 11वीं की छात्रा से चलती कार में रेप, चालक गिरफ्तार

 

 

स्कूल से आ रही शिक्षिका को बदमाशों ने बीच सड़क पर तलवार से काट डाला, मौत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नागौर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 2, 2020, 3:13 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading