लाइव टीवी

नागौर: इतिहास बनने जा रही है मेड़ता सिटी की रेल बस, आज अंतिम बार दौड़गी ट्रैक पर !
Nagaur News in Hindi

Mahendra Bishnoi | News18 Rajasthan
Updated: February 7, 2020, 4:09 PM IST
नागौर: इतिहास बनने जा रही है मेड़ता सिटी की रेल बस, आज अंतिम बार दौड़गी ट्रैक पर !
पहले यह रेल बस 1 फरवरी से बंद की जानी थी, लेकिन अब संभवतया इसे 7 फरवरी के बाद बंद कर दिया जाएगा.

नागौर (Nagaur) जिले में मेड़ता सिटी से मेड़ता रोड के बीच संचालित होने वाली रेल बस (Rail bus) अब हो बंद जाएगी. 3 रेल बसें पूर्व में बंद हो चुकी हैं और अब चौथी रेल बस को भी बंद करने की घोषणा (Announcement) कर दी गई है. यह संभवतया शुक्रवार को यह अंतिम बार (Last time) ट्रैक पर दौड़ेगी.

  • Share this:
नागौर. जिले में मेड़ता सिटी से मेड़ता रोड के बीच संचालित होने वाली रेल बस (Rail bus) अब हो बंद जाएगी. नागौर जिले में 25 साल पूर्व मेड़ता सिटी से मेड़ता रोड (Merta City to Merta Road) जंक्शन के लिए 4 रेल बसों का संचालन शुरू किया गया था. लेकिन रखरखाव के अभाव में ये रेल बसें खटारा होने लगी. 3 रेल बसें पूर्व में बंद हो चुकी हैं और अब चौथी रेल बस को भी बंद करने की घोषणा (Announcement) कर दी गई है. यह संभवतया शुक्रवार को यह अंतिम बार (Last time) ट्रैक पर दौड़ेगी.

तीन रेल बसों को पूर्व में क्रमवार बंद किया जा चुका है
मेड़ता सिटी से मेड़ता रोड के लिए संचालित की गई ये रेल बसें एशिया की पहली रेल बसें थी. तीन रेल बसों को पूर्व में क्रमवार बंद किया जा चुका है. अब अंतिम रेल बस बची थी. पहले यह रेल बस 1 फरवरी से बंद की जानी थी, लेकिन अब संभवतया इसे 7 फरवरी के बाद बंद कर दिया जाएगा. संभावना जताई जा रही है कि यह शुक्रवार को अंतिम बार यात्रियों के लिए उपलब्ध होगी. इसके बंद होने से मेड़ता सिटी सहित आसपास के लोगों को रेल बस की सुविधा से वंचित रहना पड़ेगा.

25 बरसों से चली रही रेल बस

24 अक्टूबर, 1994 को पूर्व केंद्रीय मंत्री स्व. नाथूराम मिर्धा ने हरी झंडी दिखाकर 4 रेल बसों का शुभारंभ करवाया था. इनमें से 3 पहले ही रिटायर हो चुकी हैं. चौथी रेल बस की संचालन अवधि भी समाप्त हो गई है. इस रेल बस के जरिए एक दिन में एक हजार से अधिक यात्री यात्रा करते हैं. लंबी दूरी के यात्री मेड़ता रोड उतरकर मेड़ता सिटी सहित अजमेर तक का सफर तय करते हैं. एक दिन में मेड़ता रोड़ से 500 से 600 के बीच टिकटों की बिक्री होती है. वहीं कम से कम 200 से अधिक एमएसटीधारक और लंबी दूरी के यात्री रेल बस में सफर करते हैं.

15 किमी सफर में 65 मिनट लगा रही थी
रेल बस खटारा होने के बाद पिछले 1 साल से 15 किमी सफर में 65 मिनट लगा रही थी. मेड़ता रोड़ और मेड़ता सिटी के बीच सी- 4,5,6,7,9,10 और 11 सहित सात मानवरहित फाटक हैं. वहां पर चैन फाटक लगाई गई है. बीते एक साल से एक गैंगमैन रेल बस में बैठकर जाता है. वह प्रत्येक मानवरहित फाटक पर रेल बस रोककर सेफ्टी चेन लगाता है. फिर रेल बस फाटक को क्रोस करती है. उसके बाद वह फिर रुकती और गैंगमैन रेल बस में बैठता है. ऐसे 7 मानव रहित फाटक और मेड़ता सिटी में स्थित 2 रेल फाटक संख्या सी- 12, 13 को बंद करता है और खोलता है. इससे 15 किमी के सफर में 65 मिनट का वक्त लगता है. 

जयपुर: उपभोक्ताओं को बिजली का झटका, 10-11 % बढ़ाई दरें, 1 फरवरी से हुईं लागू

 

 

जोधपुर: शादी के लिए लड़के की न्यूनतम आयु 21 और लड़की के लिए 18 वर्ष क्यों ?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नागौर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 7, 2020, 4:06 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर