Home /News /rajasthan /

MLA नारायण बेनीवाल ने SDM के सामने दी तहसीलदार को मुर्गा बनाने की धमकी, जमकर हंगामा

MLA नारायण बेनीवाल ने SDM के सामने दी तहसीलदार को मुर्गा बनाने की धमकी, जमकर हंगामा

नागौर जिले में बैठक के दौरान विधायक नारायण बेनीवाल ने तहसीलदार को मुर्गा बनाने की धमकी दी. इसके बाद अधिकारी बैठक छोड़कर चले गए.

नागौर जिले में बैठक के दौरान विधायक नारायण बेनीवाल ने तहसीलदार को मुर्गा बनाने की धमकी दी. इसके बाद अधिकारी बैठक छोड़कर चले गए.

Rajasthan News: नागौर जिले के खींवसर उपखंड कार्यालय में सतर्कता बैठक में उस वक्त जबरदस्त हंगामा हुआ जब विधायक नारायण बेनीवाल ने तहसीलदार रुघराम सेन को मुर्गा बनाने की धमकी दी. इसके बाद सेन मीटिंग बीच में ही छोड़कर चले गए. दोनों के बीच एक जमीन पर कब्जे को लेकर बहस चल रही थी. विधायक का कहना था कि अधिकारी ने इस पर कब्जा करा दिया, जबकि अधिकारी का कहना था कि ये संभव ही नहीं है. ये विवाद बढ़ते-बढ़ते हंगामे तक पहुंच गया. इस मामले में विधायक का कहना है कि वे उच्च स्तर तक तहसीलदार की शिकायत करेंगे.

अधिक पढ़ें ...

नागौर. राजस्थान के नागौर जिले के खींवसर उपखंड कार्यालय में शुक्रवार को सतर्कता बैठक में जमकर हंगामा हुआ. बात ‘मुर्गा’ बना देने तक पहुंच गई. बैठक में खींवसर विधायक नारायण बेनीवाल, उपखंड अधिकारी जीतू कुलहरि, तहसीलदार रुघाराम सेन व परिवादी सहित कई लोग मौजूद थे. पूरा मामला एक जमीन से जुड़ा हुआ है. ये जमीन भावण्डा में एक परिवादी की है.

इस पर कब्जे को लेकर विवाद शुरू हुआ. भूखण्ड आवासीय परियोजना में कन्वर्ट है. परिवादी का कहना था कि उसके खरीदे हुए भूखण्ड पर किसी ने कब्जा कर रखा है, लेकिन कब्जे को हटाने में तहसीलदार सहयोग नही कर रहे हैं. पूरे प्रकरण को लेकर खींवसर विधायक नारायण बेनीवाल ने आरोप लगाया कि तहसीलदार रुघराम सेन जानबूझकर लोगों को परेशान कर रहे हैं. पिछले आठ महीने से कार्रवाई रजिस्टर खाली पड़ा है. विधायक ने ये आरोप भी लगाया कि बैठक में केवल एक परिवादी आया, उसे भी तहसीलदार ने धमका कर भगा दिया.

तहसीलदार के खिलाफ होगी विभागीय कार्रवाई

इस मामले पर तहसीलदार रुघाराम सेन सतर्कता बैठक को बीच में ही छोड़ कर चले गए. वहीं, उपखंड अधिकारी जीतू कुलहरि बार-बार तहसीलदार सेन को फोन करती रहीं, लेकिन तहसीलदार नहीं आए. विवाद को लेकर जब उपखंड अधिकारी जीतू कुलहरि से बात की गई तो उनहोंने बताया कि विधायक बेनीवाल ने तहसीलदार को मुर्गा बनाने की बात कही थी. इसीसे खुद को अपमानित महसूस कर तहसीलदार सेन बैठक से उठकर चले गए. हालांकि, एसडीएम ने कहा कि बैठक से जाना गलत है. उन्हें बुलाने का प्रयास भी किया गया था. इसे लेकर विभागीय कार्रवाई की जाएगी.

कलेक्टर से की तहसीलदार की शिकायत- बेनीवाल

बताया जाता है कि लैंड कन्वर्जन के बाद परिवादी का मामला तहसीलदार के अधिकार क्षेत्र से बाहर हो गया है. अब यह मामला सिविल कोर्ट में है. इस पर कार्रवाई नियमानुसार की जाएगी. उपखंड अधिकारी जीतू कुलहरि ने  विधायक के बर्ताव को भी गलत ठहराया. उन्होंने कहा कि जनप्रतिनिधियों को ऐसा बर्ताव शोभा नही देता. दूसरी ओर, विधायक नारायण बेनीवाल ने कहा कि मामले को लेकर नागौर कलेक्टर जितेंद्र कुमार सोनी और सीएमओ में सचिव अभय कुमार को मोबाइल पर तहसीलदार के आचरण और व्यवहार की शिकायत कर दी है. सभी उच्च अधिकारियों को भी इस पूरे मामले की शिकायत भेजेंगे. जनप्रतिनिधियों के प्रोटोकॉल के लिए ऑफिसर्स को पाबंद नहीं किया गया तो ऐसी बैठकों का कोई औचित्य ही नहीं है.

Tags: Nagaur News, Rajasthan news

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर