Assembly Banner 2021

वेतन कटौती के विरोध में पुलिसकर्मियों ने मांगा सामूहिक अवकाश

फोटो-(ईटीवी)

फोटो-(ईटीवी)

वेतन कटौती के विरोध में करीब एक सप्ताह से मैस का बहिष्कार कर आंदोलन कर रहे पुलिसकर्मियों की मांगों पर ध्यान नहीं देने पर सोमवार को सामूहिक अवकाश पर जाने की अनुमति मांगी.

  • Share this:
वेतन कटौती के विरोध में करीब एक सप्ताह से मैस का बहिष्कार कर आंदोलन कर रहे पुलिसकर्मियों की मांगों पर ध्यान नहीं देने पर सोमवार को सामूहिक अवकाश पर जाने की अनुमति मांगी.

नावां थाने पुलिसकर्मियों ने सरकार के निर्णय और आंदोलन को लेकर अपनाए जा रहे रवैए के खिलाफ रोष जताते हुए कहा कि वे मौन रूप से सरकारी निर्णय का विरोध कर रहे हैं, जिसे सरकार हल्के में ले रही है.

गौरतलब है कि सरकार ने वर्ष 2006 के बाद लगे 2400 व 2800 ग्रेड पे वाले पुलिसकर्मियों के निर्धारित वेतन में कटौती का आदेश पारित किया है, जिसके विरोध में पुलिसकर्मी गत 9 अक्टूबर से आंदोलनरत हैं.



पुलिसकर्मियों का कहना है कि 24 घंटे ड्यूटी के लिए तैयार रहने के बावजूद उन्हें चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों के बराबर वेतन दिया जा रहा है. शांतिपूर्वक आंदोलन के बावजूद सरकार द्वारा उनकी मांगें नहीं मानने पर सोमवार को पुलिसकर्मियों ने सामूहिक अवकाश पर जाने की तैयारी कर ली.
इसको लेकर पुलिसकर्मी एकत्र होकर एसपी परिस देशमुख के पास पहुंचे और सामूहिक अवकाश की अनुमति देने की मांग की, जिस पर एसपी देशमुख ने उन्हें आश्वासन दिया कि अधिकारियों की सरकार से वार्ता चल रही है, तीन-चार दिन में सकारात्मक परिणाम आने की संभावना है.

ये हैं प्रमुख मांगें

-वेतन कटौती नहीं जाए.
-सातवां वेतन केंद्र की तरह 1 जनवरी 2016 से दिया जाए.
-हार्ड ड्यूटी बेसिक की 50 प्रतिशत की जाए या 8 घंटे ड्यूटी हो.

-मैस अलाउंस कम से कम 4000 रुपए हो.

-मैस अलाउंस व हार्ड ड्यूटी इनकम टैक्स फ्री हो.

-कांस्टेबल ग्रेड पे 3600 हो.

-कांस्टेबल की योग्यता 12वीं या स्नातक की जाए.

-कांस्टेबल को थर्ड ग्रेड की श्रेणी में माना जाए.

-साप्ताहिक अवकाश दिया जाए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज