लाइव टीवी

खींवसर में हनुमान बेनीवाल के साथ बीजेपी तो मिर्धा के साथ कांग्रेस सरकार, दोनों के लिए बनी प्रतिष्ठा की जंग

Lalit Singh | News18 Rajasthan
Updated: October 19, 2019, 7:24 PM IST
खींवसर में हनुमान बेनीवाल के साथ बीजेपी तो मिर्धा के साथ कांग्रेस सरकार, दोनों के लिए बनी प्रतिष्ठा की जंग
चुनाव प्रचार के दौरान सांसद हनुमान बेनीवाल जनता के बीच

राजस्थान के खींवसर विधानसभा की चुनावी जंग से मिर्धा और बेनीवाल परिवार की की ही नहीं कांग्रेस और बीजेपी की भी प्रतिष्ठा जुड़ गई है.

  • Share this:
नागौर. राजस्थान के उपचुनावों में खींवसर विधानसभा (Khinwsar assembly) की चुनावी जंग बेनीवाल और मिर्धा परिवारों ही नहीं बल्कि बीजेपी (BJP) और कांग्रेस (Congress) की प्रतिष्ठा से जुड़ गई है. एक तरफ मिर्धा परिवार है जो दशकों से नागौर व खींवसर क्षेत्र में राजनीति करता रहा है. दूसरी तरफ हनुमान बेनीवाल (Hanuman Beniwal) हैं जो अपनी 15 साल से जमी हुई कुर्सी पर अपने भाई नारायण बेनीवाल को बैठाना चाहते हैं. शनिवार को प्रचार खत्म होने के बाद हर किसी की नजर खींवसर हॉट सीट पर जम गई  है. मिर्धा परिवार इस सीट को जीतकर राजनीतिक रूप से वापसी के लिए बेचैन है.

मारवाड़ में हॉट सीट बनी खींवसर विधानसभा

हनुमान बेनीवाल के साथ मैदान में भाजपा है तो हरेंद्र मिर्धा के साथ पूरी राज्य सरकार है. वैसे तो प्रदेश की दो सीटों पर उपचुनाव हो रहे हैं, लेकिन मारवाड़ की खींवसर विधानसभा सीट हॉट सीट बन चुकी है . एक तरफ गहलोत सरकार खींवसर सीट पर मिर्धा परिवार को काबिज करना चाहती है तो दूसरी तरफ भारतीय जनता पार्टी आरएलपी के हनुमान बेनीवाल के भाई नारायण बेनीवाल की जीत चाहती है.

खींवसर विधानसभा क्षेत्र में 2008 से अब तक दबदबा है हनुमान बेनीवाल का 

पुनर्सीमांकन में मूंडवा से तोड़कर बनाए गए खींवसर विधानसभा क्षेत्र में 2008 से अब तक मारवाड़ की राजनीति के नए क्षत्रप हनुमान बेनीवाल का दबदबा रहा है. लेकिन आरएलपी के सर्वेसर्वा हनुमान बेनीवाल के सांसद बनने के बाद खींवसर सीट खाली हुई है जिसे वे अपने भाई को देना चाहते हैं. हनुमान बेनीवाल ने भाजपा से गठबंधन कर दोनों सहयोगी पार्टियों ने कांग्रेस के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. सुबह से लेकर शाम तक पूरे चुनाव प्रचार में हनुमान बेनीवाल डीजे की धुन पर आमलोगों से जनसम्पर्क करने में जुटे थे.

गहलोत सरकार के 60 विधायक व 15 मंत्री खींवसर उपचुनाव में हैं डेरा डाले : बेनीवाल

हनुमान बेनीवाल ने सीधा सीएम गहलोत पर निशाना साधते हुए कहा कि लोकसभा चुनावों में गहलोत के बेटे को मैंने हराया. इसलिए गहलोत सरकार के 60 विधायक व 15 मंत्री खींवसर उपचुनाव में डेरा डाले बैठे है फिर भी जीत तो आरएलपी की ही होगी. क्षेत्र में पहली बार उप चुनाव हो रहा है. इलाके में हालांकि चुनावी शोर-शराबा नहीं के बराबर है लेकिन उप चुनाव के नतीजों पर पूरे प्रदेश की नजरें टिकी हैं. उपचुनाव में पहली बार आमने-सामने की टक्कर है.
Loading...

हरेंद्र मिर्धा ने आरएलपी पर 15 साल से गुंडागर्दी का माहौल बनाने का लगाया आरोप 

कांग्रेस प्रत्याशी हरेंद्र मिर्धा ने बेनीवाल पर लगाया गुंडागर्दी का माहौल बनाने का आरोप


इसमें हरेंद्र मिर्धा प्रदेश में कांग्रेस की सरकार के साथ खुद के लगातार पंद्रह साल से चुनाव हारने के बाद संभावित सहानुभूति की लहर बनाने की कोशिश कर रहे हैं. हरेंद्र मिर्धा ने आरएलपी पर 15 साल से गुंडागर्दी का माहौल बनाने का आरोप लगाया है. साथ ही खुद को ढाई दशक से नागौर- खींवसर की सेवा करने की बात कही है. जोधपुर-नागौर हाईवे पर सोयला गांव के बाद से ही खींवसर का इलाका शुरू हो जाता है. कहीं भी चुनावी हलचल नजर नहीं आती. लेकिन कुछ ग्रामीणों ने बदलाव की बात कही थी. लोगों ने विकास की बात करने वालों को वोट देने की बात कही है. यहां बिजली, पानी के मुद्दे ज्यादातर लोगों ने सामने रखा. लोगों की बातचीत में 15 सालों की एन्टीइन्कम्बेंसी की बातें भी सुनाई दी.

ये भी पढ़ें- आधी रात को किशोरी हुई घर से लापता, सुबह पड़ोसी के यहां मिला शव

मिर्धाओं की दांव पर लगी है राजनीतिक विरासत, हनुमान बेनीवाल को बचाना है गढ़

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नागौर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 19, 2019, 7:24 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...