होम /न्यूज /राजस्थान /रिश्वत नहीं लेता ये सरकारी कर्मचारी, दफ्तर के बाहर लिखा- 'सरकार समय पर वेतन देती है, प्रलोभन न दें'

रिश्वत नहीं लेता ये सरकारी कर्मचारी, दफ्तर के बाहर लिखा- 'सरकार समय पर वेतन देती है, प्रलोभन न दें'

Nagaur: ये मामला राजस्थान के नागौर जिले का है. यहां एसडीएम कार्यालय में वरिष्ठ सहायक पद पर कार्यरत शख्स की ईमानदारी के ...अधिक पढ़ें

    रिपोर्ट: कृष्ण कुमार

    नागौर. 
    आमतौर पर सरकारी पद पर कार्य करने वाले अफसर व कर्मचारियों पर भ्रष्टाचार व घूस लेने समेत अन्य कई आरोप लगते हैं. लेकिन नागौर के एक वरिष्ठ सहायक पद पर कार्य करने वाले कर्मचारी ने कुछ ऐसी पहल की है जिसे देखकर आप भी चौंक जा जाएंगे.

    ये काम किया है बजरंग लाल कुमावत ने. बजरंग लाल नया खारियां नावा तहसील के निवासी हैं. इन्हें अपने पिता कानाराम की जगह नौकरी मिली थी. 1997 में पिताजी का देहांत होने पर 1998 में बजरंग लाल ने सरकारी पद पर कार्य शुरू किया था. फिलहाल, वो वरिष्ठ सहायक (यूडीसी) के पद पर कार्यरत हैं.

    बजरंग लाल कुमावत ने बताया कि मेरे पिताजी कानाराम जी ने मुझे ईमानदारी से अपना कर्म निभाने की बात कही थी. वहीं जब 1998 में मेरी पोस्टिंग मोहनगढ़ में थी, तब मेरे बड़े अधिकारी ने बताया था कि गरीब व जरूरतमंदों के साथ न्याय होना चाहिए और उनका काम समय पर होना चाहिए.

    उन्होंने बताया कि जब मैं मोहनगढ़ में यूएफसी से गोदाम में कार्य करता था तब गरीबों की दयनीय स्थिति देखकर प्रभावित हुआ. फिर वहां से ईमानदारी से काम किया. 2017 में वॉट्सऐप पर ‘सरकारी सेवक हूं सरकार मुझे समय पर वेतन देती है मुझे किसी प्रकार का प्रलोभन न दें बस अपना काम बताएं’ पंक्तियां आईं. वहीं ऐपीज अब्दुल कलाम की लाइन ‘आराम से बैठो प्रतीक्षा करो, जिसने आपके साथ बुरा किया है, उसका भी बुरा होगा’. इन लाइनों से प्रभावित होकर बजरंग लाल ने अपने सरकारी दफ्तर के बाहर यह पंक्तिया लगाईं.

    बजरंग लाल की यह लाइनें देखकर अन्य सरकारी कर्मचारियों ने भी अपना काम करने का नजरिया व तरीका बदला है. बजरंग लाल ने बताया कि कई बड़े अधिकारी, कलेक्टर महोदय, एसडीएम सहित अन्य अधिकारियों ने भी इस ईमानदारी को देखकर पीठ थपथपाई व सिस्टम में परिवर्तन लाने की बात कही.

    Tags: Nagaur News, Rajasthan news in hindi

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें