नागौर में बवाल: पथराव में घायल जेसीबी चालक की मौत, MP हनुमान बेनीवाल ने दी चेतावनी

Mahendra Bishnoi | News18 Rajasthan
Updated: August 25, 2019, 3:17 PM IST
नागौर में बवाल: पथराव में घायल जेसीबी चालक की मौत, MP हनुमान बेनीवाल ने दी चेतावनी
नागौर के ताऊसर गांव में बड़ी तादाद में पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है. फोटो : न्यूज 18 राजस्थान

नागौर (Nagaur) के ताऊसर गांव में अतिक्रमण हटाने (Encroachment removal) पर मचा बवाल और गंभीर (serious) हो गया है. पथराव (stone pelting) में घायल जेसीबी चालक फारुख की मौत (Death) हो गई है.

  • Share this:
नागौर (Nagaur) के ताऊसर गांव में अतिक्रमण हटाने (Encroachment Removal) पर मचा बवाल और गंभीर हो गया है. पूरी सुरक्षा के साथ अतिक्रमण हटाने के पहुंचे पुलिस-प्रशासन (Rajasthan Police) की टीम पर हुए पथराव (Stone Pelting) की चपेट में आए जेसीबी चालक फारुख की मौत (Death) हो गई है. उसके बाद मृतक के परिजनों ने अस्पताल में जमकर हंगामा किया है. वहीं, ताऊसर में तनाव के बीच भारी पुलिसबल और शीर्ष अधिकारी डटे हुए हैं. मामला बढ़ता देखकर पुलिस और प्रशासन की सांसें फूल गई हैं. इस बीच, नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल (MP Hanuman Beniwal) ने पुलिस-प्रशासन को चेतावनी देते हुए कहा कि वह गरीबों के घर नहीं उजड़ने देंगे.

जेसीबी चालक की मौत पर अस्पताल में हंगामा
रविवार को सुबह पुलिस-प्रशासन की एक टीम ताऊसर गांव की बंजारों की ढाणियों में अतिक्रमण हटाने लिए गया था. वहां बंजारा समाज के लोगों ने पुलिस-प्रशासन की कार्रवाई का विरोध किया और बाद में उन पर जबर्दस्त पथराव कर दिया. इस घटना में जेसीबी चालक फारुख गंभीर रूप से घायल हो गया था. उसे तत्काल नागौर के जेल अस्पताल भेजा गया, जहां उसकी मौत हो गई. दूसरी तरफ, बंजारा समाज के लोग काफी देर तक पुलिस पर पथराव करते रहे. इस पर पुलिस ने भीड़ को हटाने के लिए जवाबी कार्रवाई करते हुए लाठीचार्ज कर दिया था. इससे वहां और भगदड़ मच गई. लाठीचार्ज के दौरान भी कई लोग चोटिल हो गए.

यह है पूरा मामला

हाईकोर्ट के आदेश का पालन करते हुए स्‍थानीय प्रशासन की टीम पुलिस की सुरक्षा में अतिक्रमण हटाने गई थी. दो दर्जन से अधिक कच्चे-पक्के मकान को हटाने का प्रस्ताव था. अतिक्रमण हटाने के दौरान कानून व्यवस्था प्रभावित होने और भारी विरोध की आशंका पहले से थी. इसके चलते पुलिस-प्रशासन पूरी तैयारी के साथ वहां पहुंचा था. कार्रवाई के दौरान एडीएम, एसडीएम, एएसपी, तीन डीएसपी और तहसीलदार समेत 550 से अधिक पुलिसकर्मियों का जत्‍था तैनात किया गया था. पुलिस-प्रशासन ने भारी विरोध के बीच अतिक्रमण किए हुए काफी कच्चे-पक्के मकान ध्वस्त भी कर दिए थे. इस बीच, बंजारा समाज के लोगों द्वारा पथराव करने से हालात बिगड़ गए. कलक्टर-एसपी पूरे मामले पर नजर बनाए हुए हैं.

चारों तरफ से घिरा पुलिस-प्रशासन
ताऊसर बवाल मामले में पुलिस-प्रशासन चारों तरफ से घिर गया है. एक तरफ ताऊसर में तनाव बना हुआ है, वहीं दूसरी तरफ जेसीबी चालक की मौत के बाद उसके परिजन अस्पताल में हंगामा कर रहे हैं. इस बीच मामले पर सियासत भी गरमाने लगी है. सांसद हनुमान बेनीवाल ने इस मामले में बयान देते हुए कहा कि वह गरीबों के घर नहीं उजड़ने देंगे. प्रशासन ने सरकार के मंत्रियों की बात को दरकिनार किया है. राजस्व मंत्री ने सोमवार को मामले में बैठक रखी थी, लेकिन इससे पहले प्रशासन ने हाईकोर्ट के आदेश की आड़ लेकर गरीबों के घर उजाड़ दिए. बेनीवाल ने कहा कि वे बंजारों को लेकर धरने पर बैठेंगे.
Loading...

नागौर: अतिक्रमण हटाने पर बवाल, जमकर पथराव और लाठीचार्ज

श्रीगंगानगर: जेल में 4 कैदियों ने नंबरदार कैदी को घेरकर पीटा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नागौर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 25, 2019, 2:11 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...