लाइव टीवी

रेस्क्यू सेंटर पर हिरण मांस पकाने का मामला, दो गार्ड सस्पेंड, CM तक शिकायत

Mahendra Bishnoi | News18 Rajasthan
Updated: October 31, 2019, 7:38 AM IST
रेस्क्यू सेंटर पर हिरण मांस पकाने का मामला, दो गार्ड सस्पेंड, CM तक शिकायत
रेस्क्यू सेंटर के एक अस्थाई कर्मचारी को भी हटा दिया है.

नागौर (Nagaur) जिले के रेस्क्यू सेंटर (Rescue Center) पर चिंकारा (Chinkara) का मांस पकाने के मामले में कैटल गार्ड (Cattle Guards) मुंशी खां और भंवराराम को सस्पेंड (Suspended) करने के साथ ही रेस्क्यू सेंटर के एक अस्थाई कर्मचारी को भी हटा दिया है.

  • Share this:
नागौर. राजस्थान के नागौर (Nagaur) जिले के रेस्क्यू सेंटर (Rescue Center) पर चिंकारा (Chinkara) का मांस पकाने के मामले में वन विभाग ने दो कैटल गार्ड सस्पेंड करने के आदेश जारी कर दिए है. कैटल गार्ड (Cattle Guards) मुंशी खां और भंवराराम को सस्पेंड (Suspended) करने के साथ ही रेस्क्यू सेंटर के एक अस्थाई कर्मचारी को भी हटा दिया है. कार्यवाहक डीएफओ सुनील गौड की ओर से इस संबंध में आदेश जारी किए गए है. हालांकि इसे बावजूद बिश्नोई समाज (Bishnoi Community) में मामले में त्वरित कार्यवाही नहीं होने से रोष व्याप्त हैं और इस पूरे मामले की शिकायत मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) से एक चिट्ठी के जरिए की है.

वन विभाग ने शुरू की जांच
नागौर के गोगेलाव स्थित रेस्क्यू सेंटर पर चिंकारा हिरण को पकाने के दो आरोपी कैटल गार्ड को वन विभाग ने सस्पेंड कर दिया है. इसके साथ ही एक अस्थाई कर्मचारी को हटा दिया है. नागौर वन विभाग के कार्यवाहक डीएफओ सुनील गौड़ ने कैटल गार्ड मुंशी खां और भंवराराम को सस्पेंड करने के आदेश जारी कर दिये हैं. इसके साथ ही इस मामले की जांच भी वन विभाग द्वारा शुरू की गई है.
बिश्नोई धर्मशाला में विरोध प्रदर्शन, सीएम के नाम चिट्‌ठी

बिश्नोई समाज के लोग इस मामले में बुधवार को बिश्नोई धर्मशाला मेंं इकट्ठा हुए और बैठक आयोजित कर मामले में मुख्यमंत्री के नाम मांगपत्र भेजने का निर्णय लिया. जिसके बाद जिला कलेक्टर दिनेश यादव को मुख्यमंत्री के नाम मांगपत्र सौंपा गया. इसमें गोगेलाव के रेस्क्यू सेंटर में चिंकारा हिरण को पकाने और शराब पार्टी के इस मामले की उच्च स्तरीय जांच की मांग बिश्नोई समाज द्वारा की गई है.
हिरणों की मौत की जांच की मांग
वन विभाग द्वारा अब तक की गई कार्यवाही से बिश्नोई समाज स्तुंष्ट नहीं है और गोगेलाव रेस्क्यू सेंटर के जो हालात हैं उन्हे सुधारने की मांग समाज द्वारा की गई हैं. रेस्क्यू सेंटर में पिछले दिनो जो घायल हिरण लाए गए थे उन सभी हिरणो की मौत को लेकर बिश्नोई समाज जांच की मांग कर रहा है. साथ ही रेस्क्यू सेंटर में पशु चिकित्सक लगाने की मांग की है. वर्तमान में रेस्क्यू सेंटर में एक भी पशु चिकित्सक नहीं है. श्री जंभेश्वर पर्यावरण एवं जीवरक्षा के सदस्य ओमप्रकाश लेगा ने कहा कि केवल लीपापोती इस मामले में हुई है जिसे बर्दास्त नहीं किया जाएगा.
Loading...

इस मामले का अनुसंंधान होना चाहिये, जो कर्मचारी मांस-मदिरा का सेवन करते हैं ऐसे कर्मचारियों को वन्य जीवों की सुरक्षा की जिम्मेदारी दे रखी थी उन्हें वहां से हटाया जाए. मांस किसका था यह न हमें पता है न वन विभाग को, इसकी भी जांंच होनी चाहिए. जो चिंकारा हिरण रेस्क्यू सेंटर भेजे गये थे उन सभी को मृत बताकर दफनाने की एट्री रजिस्टर में की गई, कोई चिंकारा नहीं बचा.
रामरतन बिश्नोई, प्रदेशाध्यक्ष, श्री जंभेश्वर पर्यावरण एवं जीवरक्षा


ये भी पढ़ें- 

डेयरी चेयरमैन पर यौन शोषण के आरोप लगाने वाली युवती को धमकी
सीएम गहलोत से मिले BJP प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया, ये दो किताबें की भेंट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नागौर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 30, 2019, 5:48 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...