बाड़मेर जिला अस्पताल में सिर्फ चार दिन के लिए बचा ऑक्सीजन सिलेंडर, कोरोना संक्रमण के दोगुने आ रहे हैं मरीज

बाड़मेर जिला अस्पताल का फाइल फोटो.
बाड़मेर जिला अस्पताल का फाइल फोटो.

बाड़मेर(Barmer) जिले में कोरोना संक्रमितों (Corona infected) की संख्या बड़ी तेजी से बढ़ रही है.अगस्त के मुकाबले सितंबर में दोगुने मरीज अस्पताल (Hospital) में पहुंच रहे हैं, ऐसे में अस्पताल में ऑक्सीजन (Oxygen) की मांग बढ़ गई है. अब अस्पताल के पास केवल चार दिनों के लिए ऑक्सीजन सिलेंडर (Oxygen cylinder) बचे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 23, 2020, 7:31 PM IST
  • Share this:
बाड़मेर. प्रदेश में कोरोना संक्रमितों (Corona Infected) की संख्या तेजी से बढ़ रही है. वहीं बाड़मेर (Barmer) में कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या चिंताजनक बनी हुई है. अगस्त की तुलना में सितम्बर में यहां कोरोना संक्रमितों की संख्या दो गुना हो गई है. इन मरीजों को अब ऑक्सीजन (Oxygen) की आवश्यक्ता पड़ने लगी है. पिछले महीने की अपेक्षा सितंबर में ऑक्सीजन की मांग दोगुनी बढ़ गई है.वहीं बाड़मेर-जैसलमेर में कोरोना सैंपलिंग का आंकड़ा 1 लाख के पार पहुंच गया है, जिसमें बाड़मेर में कोरोना का आंकड़ा 3061 तक पहुंच गया है.

बाड़मेर में जहां अगस्त में 20 ऑक्सीजन सिलेंडर रोज उपयोग में लिए जा रहे थे, वहीं अब उनकी मांग बढ़ कर 40 हो गई है. वेंटीलेटर का भी उपयोग लगातार बढ़ रहा है. जिला अस्पताल में कोरोना संक्रमित मरीजों में श्वास की तकलीफ के मरीज ज्यादा आ रहे हैं. इससे ऑक्सीजन की खपत भी बढ़ रही है. जिला अस्पताल प्रशासन ने कंपनियों से 30 ऑक्सीजन सिलेंडर की खरीद की है ताकि गंभीर मरीजों को कोई दिक्कत ना हो. वर्तमान में 168 ऑक्सीजन सिलेंडर स्टॉक में है, यानी 4-5 दिन के लिए अभी ऑक्सीजन है. बाड़मेर में रोज 40 ऑक्सीजन सिलेंडर की जरूरत है, जबकि एक माह पहले यह आंकड़ा महज 20 ही था.

गहलोत सरकार आवासीय विद्यालय-हॉस्टल में नेतृत्व क्षमता का करेगी विकास



सिर्फ चार दिन के लिए बचा ऑक्सीजन
अब जिला अस्पताल प्रशासन के लिए ऑक्सीजन की आपूर्ति चुनौती बनी हुई है. जिला अस्पताल के पास 168 ऑक्सीजन सिलेंडर हैं, जो 4 दिन का ही स्टॉक है. ऐसी स्थिति में आपूर्ति में कमी को देखते हुए जिला अस्पताल ने 30 ऑक्सीजन सिलेंडर कंपनियों से खरीदे हैं, ताकि आपताकालीन स्थिति में काम आ सके.

डॉ आरके आसेरी, प्रधानाचार्य मेडिकल कॉलेज, बाड़मेर ने कहा  कि सरकार का दावा है कि अस्पतालों में पर्याप्त ऑक्सीजन सिलेंडर की व्यवस्था है और आने वाले दिनों में बढ़ती डिमांड को देखते हुए हर तरह के विकल्प तैयार किए जा रहे हैं. अस्पतालों में बेड की संख्या तो पर्याप्त है, लेकिन ऑक्सीजन वाले बेड बहुत ही सीमित रखे गए हैं. हालांकि डॉ. आरके आसेरी के मुताबिक बाड़मेर में ही ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट स्थापित किया गया है, जिसमें करीब एक हजार किलो की मशीन लगाई गई है. इससे 90 ऑक्सीजन सिलेंडर प्रतिदिन उपलब्ध हो सकेंगे. अभी तक यह प्रक्रिया शुरू होने में एक से डेढ़ माह का समय लगेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज