Home /News /rajasthan /

जातीय पंचायत का कहर: बुजुर्ग को घंटों पंचों के जूतों के पास खड़ा रखा, 25 लाख का जुर्माना लगाया

जातीय पंचायत का कहर: बुजुर्ग को घंटों पंचों के जूतों के पास खड़ा रखा, 25 लाख का जुर्माना लगाया

25 लाख रुपये का जुर्माना भरने में असमर्थता जाहिर करने पर जातीय पंचायत ने पीड़ित का सामाजिक बहिष्कार कर उसका हुक्का पानी बंद करने का तुगलकी फरमान जारी कर दिया.

25 लाख रुपये का जुर्माना भरने में असमर्थता जाहिर करने पर जातीय पंचायत ने पीड़ित का सामाजिक बहिष्कार कर उसका हुक्का पानी बंद करने का तुगलकी फरमान जारी कर दिया.

Caste Panchayats Havoc: राजस्थान में सिर चढ़कर बोल रही जातीय पंचायतें अब जानलेवा होने लग गई हैं. पाली (Pali) जिले में जातीय पंचायत के तुगलकी फरमान से आहत एक बुजुर्ग ने जहर खाकर जान देने की कोशिश की. गनीमत रही कि उसे बचा लिया गया है. जातीय पंचायत ने उस पर 25 लाख रुपये का जुर्माना लगा दिया था. बुजुर्ग ने जब जुर्माना भरने में असमर्थता जाहिर की तो उसे समाज से बहिष्कृत कर दिया गया.

अधिक पढ़ें ...

पाली. राजस्थान में जातीय पंचायतें (Caste panchayats) अब जानलेवा (Fatal) होने लग गई हैं. ऐसा ही एक गंभीर मामला पाली (Pali) जिले में सामने आया है. यहां जातीय पंचायत के तुगलगी फरमान से आहत एक बुजुर्ग ने जहर खाकर जान देने की कोशिश (Suicide attempt) की लेकिन उसे बचा लिया गया है. जातीय पंचायत ने उसके घरेलू मामले में तुगलगी फरमान जारी करते हुये उस पर 25 लाख रुपये का जुर्माना ठोक दिया. यही नहीं पंचायत के दौरान उसे दिनभर पंचों के जूतों के पास खड़ा रखा गया. जुर्माना भरने में असमर्थता जताने पर उसे समाज से बहिष्कृत कर दिया गया. इससे आहत बुजुर्ग ने जहर खा लिया. बुजुर्ग का जोधपुर के महात्मा गांधी अस्पताल में इलाज चल रहा है.

जानकारी के अनुसार मामला पाली जिले के सोजत उपखंड के बिलावास गांव का है. बताया जा रहा है कि पीड़ित मूलाराम की बेटी की करीब 13 वर्ष पूर्व शादी हुई थी. पति से अनबन के चलते वह पीहर ही रहने लग गई. यह बात जातीय पंचों को खटक गई. इसको लेकर समाज की पंचायती हुई. मूलाराम की बेटी के भरण-पोषण के लिए उसके पति से साढ़े 12 लाख रुपये ले लिये गये.

समाज के 9 पट्टी के पंचों की पंचायती हुई
ये रुपये पंचों ने पीड़िता को देने की बजाय अपने पास ही रख लिये. यह बात धीरे धीरे बढ़ती गई. मंगलवार को बिलावास गांव में प्रजापत समाज के 9 पट्टी के पंचों की पंचायती हुई. इसमें मूलाराम को बुलाया गया. जब तक पंचायत चली तब तक मूलाराम को पंचों के जूतों के पास खड़ा रहने का आदेश दिया गया. आखिर में उसे जुर्माने के तौर पर 25 लाख रुपये जमा कराने का हुकुम दिया गया.

हुक्का पानी बंद करने का तुगलकी फरमान किया जारी
मूलाराम ने इतने रुपये जमा कराने में असहमति जताई. इस पर जातीय पंच भड़क गये. उन्होंने पीड़ित का सामाजिक बहिष्कार कर उसका हुक्का पानी बंद करने का तुगलकी फरमान जारी कर दिया. इससे आहत होकर पीड़ित ने जहर खा लिया जिससे उसकी तबीयत बिगड़ गई. बाद में पीड़ित को सोजत के अस्पताल में भर्ती करवाया गया. वहां से जोधपुर रेफर कर दिया गया.

राज्य मानवाधिकार आयोग ने तलब की रिपोर्ट
वहीं इस संबंध में मीडिया में खबरें प्रसारित होने के बाद राज्य मानवाधिकार आयोग ने इस मामले में प्रसंज्ञान लिया है. आयोग ने पूरे मामले को लेकर पाली जिला कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक से रिपोर्ट तलब की है. फिलहाल इस मामले में किसी की कोई गिरफ्तारी नहीं हो पाई है. पुलिस इस बारे में कुछ भी बोलने से कतरा रही है.

Tags: Crime story, Pali news, Rajasthan latest news, Rajasthan news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर