राजस्‍थान: 45 द‍िन में कई युवाओं समेत 25 लोगों की मौत, तब गांववालों ने उठाया ये कदम


राजस्‍थान के पाली में एक गांव में ग्रामीणों ने कोरोना महामारी से मौतों का स‍िलस‍िला रोकने के ल‍िए गांव के चारों तरफ लक्ष्‍मण रेखा खींच दी

राजस्‍थान के पाली में एक गांव में ग्रामीणों ने कोरोना महामारी से मौतों का स‍िलस‍िला रोकने के ल‍िए गांव के चारों तरफ लक्ष्‍मण रेखा खींच दी

Rajasthan news: राजस्‍थान के इस गांव में जब मौतों का सिलसिला नहीं रुका तो ग्रामीणों ने धार्मिक मान्यता के तहत गांव में अर्ध रात्रि को ढोल थाली के साथ गांव के चारों तरफ भगवान हनुमान जी व भेरुजी की लक्ष्मण रेखा खींची.

  • Share this:

राजस्‍थान के पाली जिला मुख्यालय से करीब 12 किलोमीटर की दूरी पर आबाद खारडा गांव में कोरोना महामारी के इस दौर में मौतों का आंकड़ा थमने का नाम नहीं ले रहा है. ग्रामीणों की माने तो पिछले 40-45 दिनों में गांव में 20 से 25 मौतें हुई, जिसमें कई युवा भी शामिल है हालांकि सरकारी र‍िकॉर्ड में सभी मौतों कोरोना से नहीं होना बताया गया है.

जब मौतों का सिलसिला नहीं रुका तो ग्रामीणों ने धार्मिक मान्यता के तहत गांव में अर्ध रात्रि को ढोल थाली के साथ गांव के चारों तरफ भगवान हनुमान जी व भेरुजी की लक्ष्मण रेखा खींची. ग्रामीणों का कहना कि धार्मिक मान्यता है कि ऐसा करने से गांव में महामारी नहीं चलेगी तथा मौतों का सिलसिला रूकेगा. ग्रामीणों के इस धार्मिक मान्यता को आस्था या अंधविश्वास कहे लेकिन महामारी के इस दौर में लोग तरह-तरह के जतन कर महामारी भगाने में भगवान को खुश करने में लगे हुए हैं. क्योंकि ग्रामीणों का कहना है कि ऐसा करने से महामारी रूकती है तो हमें मरीजों को अस्पताल में भर्ती नहीं कराना पड़ेगा.

Youtube Video

पूरे देश में कोरोना से इतनी मौतें नहीं होती लेकिन हकीकत यह है कि खारडा में पिछले कुछ दिनों से हुई लगातार मौतों से कई घरों में शोक का कारण बन गई है. खारड़ा गांव में ग्रामीणों द्वारा रात के अंधेरे में धार्मिक आस्था के चलते इस तरह की लक्ष्मण रेखा खींचने का वीडियो शुक्रवार को सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, जो शहर भर में चर्चा का विषय बना हुआ है.
ज्ञात रहे कि कुछ दिनों पूर्व अकेली गांव में भी इस तरह की लक्ष्मण रेखा रात के अंधेरे में खींचने का वीडियो वायरल हुआ था. ग्रामीणों का कहना है कि गांव में पिछले कुछ दिनों में 25 से अधिक मौतें हुई है इतनी मौतें होने से पूरा गांव शौक में है इसलिए ग्रामीणों ने धार्मिक मान्यता के तहत लक्ष्मण रेखा खींचने का कार्यक्रम रखा.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज