Salary की मांग को लेकर मजदूरों ने किया हंगामा, पथराव में कई पुलिसकर्मी और श्रमिक घायल, देखें VIDEO
Pali News in Hindi

Salary की मांग को लेकर मजदूरों ने किया हंगामा, पथराव में कई पुलिसकर्मी और श्रमिक घायल, देखें VIDEO
हंगामे की सूचना मिलने के बाद भारी संख्या में पुलिस जब मिल पहुंचा लेकिन आक्रोशित श्रमिकों ने पुलिस पर भी पथराव शुरू कर दिया.

राजस्थान में पाली (Pali) की सबसे बड़ी कपड़ा इकाई महाराजा उम्मेद मिल (Umaid Mills) में बुधवार को सैलरी को लेकर हजारों श्रमिकों ने हंगामा खड़ा कर दिया.

  • Share this:
पाली. राजस्थान में पाली (Pali) की सबसे बड़ी कपड़ा इकाई महाराजा उम्मेद मिल (Umaid Mills) में बुधवार को सैलरी को लेकर हजारों श्रमिकों ने हंगामा खड़ा कर दिया. हंगामे को शांत करने पहुंची पुलिस पर मजदूरों ने पथराव शुरू कर दिया. उसके बाद पुलिस ने मामले को शांत करने के लिए श्रमिकों पर लाठियां भांजी. इस पूरे हंगामे में कई पुलिसकर्मी और श्रमिक घायल हो गए.

 50 से ज्यादा मजदूर हिरासत में
वहीं, पुलिस ने लाठिया बांधने के बाद हंगामा करने वाले 50 से ज्यादा श्रमिकों को हिरासत में लिया. मामले की जानकारी मिलने पर पुलिस अधीक्षक राहुल कोटोकी, एसडीएम रोहिताश सिंह तोमर सहित भारी संख्या में पुलिस बल उम्मेद मिल की सोसाइटी में पहुंचा जहां पर भी श्रमिकों ने पुलिस पर पथराव किया उसके बाद पुलिस ने बल प्रयोग कर श्रमिकों को हिरासत में लिया.

वेतन की मांग को लेकर हंगामा
लॉकडाउन-3 में दी गई छूट पर उम्मेद मिल ने कार्य शुरू कर दिया. इस दौरान मिल प्रबंधन ने बाहरी प्रदेश के सैकड़ों हजारों श्रमिकों को यहीं रोक रखा था लेकिन पिछले लंबे समय से इन श्रमिकों को उनका वेतन नहीं दिया जा रहा था. श्रमिकों द्वारा कई बार मिल प्रबंधन से वेतन की मांग की गई लेकिन मिल प्रबंधन ने मजदूरों की मांग को अनसुनी कर दी जिसके बाद बुधवार को मजदूरों का आक्रोश फूट गया और मिल में हंगामा करने लगे.



पुलिस पर पथराव
हंगामे की सूचना मिलने के बाद भारी संख्या में पुलिस जब मिल पहुंचा लेकिन आक्रोशित श्रमिकों ने पुलिस पर भी पथराव शुरू कर दिया. मामले को बढ़ता देख पुलिस ने मजदूरों पर पथराव के जवाब में लाठियां भांजनी शुरू कर दी लेकिन हजारों की तादात में मजदूरों द्वारा पुलिस पर पथराव होते देख पुलिस ने अतिरिक्त जाब्ता मौके पर बुलाया. मामले को बढ़ते देख पुलिस अधीक्षक राहुल कोटोकी खुद मौके पर पहुंचे और उत्पात मचाने वाले 50 से अधिक मजदूरों को हिरासत में भी लिया गया.

इस पूरे मामले में सबसे बड़ी बात यह रही कि पुलिस अधीक्षक और उपखंड अधिकारी खुद मौके पर पहुंच गए और मिल प्रबंधन के लोगों को बुलाने के बावजूद भी वह लोग पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों के पास नहीं पहुंचे जिस पर पुलिस अधीक्षक ने थोड़ी सख्ती दिखाई. उसके बाद मिल प्रबंधन के प्रोजेक्ट मैनेजर पुलिस अधीक्षक से मिलने पहुंचे.

ये भी पढ़ें- COVID-19: बूंदी जिले में कोरोना वायरस नहीं ले पाया 'एंट्री', यह है खास वजह

Corona संकट में मदद का हाथ, जरुरतमंदों को 15 दिन का राशन देगी सरकार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading