लाइव टीवी

चार लोगों को मार चुका आदमखोर तेंदुआ पकड़ा गया!
Jaipur News in Hindi

Bhawani Singh | News18India
Updated: February 18, 2017, 6:29 PM IST
चार लोगों को मार चुका आदमखोर तेंदुआ पकड़ा गया!
सरिस्का में चार लोगों को मौत के घाट उतारने वाला आदमखोर तेंदुआ छह दिन की तलाश के बाद पकड़ा गया. एक पिजरें में बकरे का लालच देकर तेंदुए को कैद किया गया है.

सरिस्का में चार लोगों को मौत के घाट उतारने वाला आदमखोर तेंदुआ छह दिन की तलाश के बाद पकड़ा गया. एक पिजरें में बकरे का लालच देकर तेंदुए को कैद किया गया है.

  • News18India
  • Last Updated: February 18, 2017, 6:29 PM IST
  • Share this:
सरिस्का में चार लोगों को मौत के घाट उतारने वाला आदमखोर तेंदुआ छह दिन की तलाश के बाद पकड़ा गया. एक पिजरें में बकरे का लालच देकर तेंदुए को कैद किया गया है.

सरिस्का टाईगर पार्क में आदमखोर तेंदुए को पकड़ने के लिए 10 पिंजरे अलग-अलग जगह रखवाए गए और उनमें बकरे बांधे गए. इस तेंदुए को पकड़ने के लिए पिछले 6 दिनों से 250 शार्प शूटर की तीन टीम चप्पा- चप्पा छान रही थी. उसकी दहाड़ सुनकर कई दफा मोर्चा भी लिया, लेकिन शातिर तेंदुआ जाल में नहीं फंसा.

पिंजरे में कैद करने के बाद उसे जयपुर जू में भिजवा दिया गया है. इस बात का पता लगाने के लिए कि पकड़ा गया तेंदुआ आदमखोर है या नहीं, उसकी डीएनए जांच जांच करवाई होगी. पैंथर के डीएनए सैंपल ले लिए गए हैं लेकिन जब तक रिपोर्ट से पता नहीं चल जाता तब तक जंगल में तलाशी अभियान भी चलेगा.

तेंदुए की सर्च के लिए ड्रोन कैमरो, डॉग स्कायड और स्पेशल टाईगर प्रोटेक्शन फोर्स की मदद ली गई. अलवर के एसपी खुद एके-47 के साथ जंगल में सर्च ऑपरेशन की पहली रात डटे रहे.

तेंदुए को गोली मारने के आदेश दिए गए थे लेकिन पिंजरे में कैद होने के बाद उसे शूट नहीं किया गया. लेकिन केवल तेंदुए ही हमले नहीं कर रहे हैं पिछले एक साल में राजस्थान में 150 तेंदुए भी मारे गए हैं.

सरिस्का में टाईगर की लगातार बढ़ती तादाद के बाद खुद के बचाव और शिकार के लिए तेंदुए जंगल से बाहर निकल रहे हैं. वो जंगल से सटे इलाकों में छिपकर शिकार की तलाश में हमले कर रहे हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 18, 2017, 6:29 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर