बाड़मेर गैंगरेप: पुलिस और प्रशासन के आला अधिकारियों ने अस्पताल पहुंचकर सुनी पीड़ित परिवार की समस्या

बाड़मेर में गैंगरेप पीड़ता के परिवार से पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों ने मुलाकात की.
बाड़मेर में गैंगरेप पीड़ता के परिवार से पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों ने मुलाकात की.

बाड़मेर (Barmer) में नाबालिग का अपहरण कर गैंगरेप (Gangrape) के मामले में पुलिस (Police) और प्रशासन के उच्च अधिकारियों ने पीड़िता के परिवार से अस्पताल (Hospital) जाकर हालचाल जाना. साथ ही कड़ी कार्रवाई का भरोसा दिलाया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 7, 2020, 3:36 PM IST
  • Share this:
बाड़मेर. जिले के शिव थाना क्षेत्र के एक गांव में नाबालिग बच्ची का अपहरण कर गैंगरेप(Gang Rape) करने के मामले में पुलिस (Police) और प्रशासन के उच्च अधिकारी पीड़िता का हालचाल जानने के लिए राजकीय अस्पताल (Hospital) पहुंचे. यहां पर उन्होंने पीड़िता के परिजनों से बात की और उन्हें आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई का भरोसा दिया. पुलिस ने इस मामले में पोक्सो एक्ट और आईटी एक्ट के तहत केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है. बाड़मेर जिला कलेक्टर विश्राम मीणा और बाड़मेर पुलिस अधीक्षक आंनद शर्मा ने बताया कि आरोपियों को जल्द गिरफ्तार किया जाएगा. साथ ही पीड़िता की हर सम्भव मदद की जाएगी.

उत्तरप्रदेश के हाथरस में दलित युवती के साथ गैंगरेप के मामले में आक्रोश की आंच ठंडी नहीं हुई थी कि राजस्थान के सरहदी बाड़मेर जिले में 15 वर्षीय नाबालिग के साथ गैंगरेप का मामला सामने आया है. घटना के बाद घायलावस्था में नाबालिग को पास ही के स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया, जहां प्राथमिक उपचार के बाद उसे जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया है. इन दिनों पीड़िता का जिला अस्पताल में इलाज चल रहा है. घटना की जानकारी मिलने पर जिला कलेक्टर विश्राम मीणा एवं जिला पुलिस अधीक्षक ने अस्पताल पहुंचकर पीड़ित मासूम की कुशलक्षेम जानी और पीड़ित परिवार से पूरे मामले की जानकारी जुटाई. वहीं चिकित्सकों को मासूम के स्वास्थ्य में सुधार के लिए अच्छे इलाक की सलाह है दी.

Rajasthan: रेप की वारदातों पर पूर्व सीएम वसुंधरा राजे का अशोक गहलोत पर 'Twitter attack', कहा-जंगलराज




पीड़ित परिवार ने घटना के बारे में बताया कि पूरा परिवार पास ही के गांव में मतदान करने के लिए गया  था. जब घर वाले दोपहर में वापस लौटे तो नाबालिग घर पर नही दिखी जिस पर आसपास देखा, लेकिन नाबालिग का कहीं सुराग नहीं लगा.  इस पर घबराएं परिजनों ने भियाड़ पुलिस चौकी में जाकर शिकायत दी. पुलिस की छानबीन में देर शाम घर से कुछ ही दूरी पर नाबालिग अचेतावस्था में मिली. इसके बाद  नाबालिग को शिव सामुदायिक अस्पताल भर्ती कराया गया. प्राथमिक उपचार के बाद इलाज के लिए नाबालिग को जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज