लाइव टीवी

VIDEO: अचनारा के मंदिर में सैड़कों श्रद्धालुओं ने अंगारों पर चलकर किए मां के दर्शन

Chandan Kumar | News18 Rajasthan
Updated: October 8, 2019, 7:56 PM IST
VIDEO: अचनारा के मंदिर में सैड़कों श्रद्धालुओं ने अंगारों पर चलकर किए मां के दर्शन
दहकते अंगारों से नंगे पैर गुजरते पुजारी और भक्तगण

प्रतापगढ़ जिला स्थित अचनारा के मंदिर में मंगलवार को सैड़कों श्रद्धालुओं ने अंगारों पर चलकर मंदिर में माता के दर्शन दिए. दहकते अंगारों पर आस्था और विश्वास भारी पड़ा.

  • Share this:
प्रतापगढ़. जिले के अचनारा के हिंगलाज, चामुंडा और कालिका त्रिदेवियों के मंदिर की ख्याति दूर-दूर तक फैली हुई है. नवरात्रि के अन्तिम दिन ‘चुल’ का आयोजन प्राचीनकाल से होता आया है. जिसमें माता के भक्त नंगे पांव अंगारों पर चलकर मां के दर्शन के लिए पहुंचते हैं. मान्यता है कि चुल से होकर मां के दर्शन करने से शारीरिक कष्टों से छुटकारा मिलता है. चुल को नौ गज लंबी और सवा गज चौड़ी सवा गज गहरी बनाई गई है, जिसमें लकड़ी जला कर अंगारे बनाए गए हैं. शुरुआत में मंदिर के पंडाजी धधकते हुए अंगारों पर चले, उसके बाद भक्तों ने अंगारों पर चलकर दर्शन किए. भक्त बताते हैं कि माता के आशीर्वाद से न तो पैरों में जलन होती है और न छाले पड़ते हैं. अंगारों पर चलने पर कोई परेशानी भी नहीं होती है.

अंगारों को फूलों की चादर समझकर चलते हैं लोग

मां के दर्शनों से कष्टों का निवारण होता है. ग्रामीण ही नहीं, शहरी लोग भी अंगारों को फूलों की चादर समझकर चलते हैं. श्रद्धालुओं का विश्वास है कि जलते अंगारों पर चलने से मन की मुरादें पूरी होती हैं, गोद भरती है, कई बीमारियां दूर होती हैं. दुष्ट आत्माओं का साया पास नहीं फटकता है.

छोटे-छोटे बच्चे भी बेखौफ होकर चलते हैं अंगारों पर


कुछ लोगों का कहना है कि जिस कुंड के जल से पांव धोने के बाद अंगारों पर लोग चलते हैं, उस जल में कोई न कोई ऐसा रसायन है, जो किसी फायर प्रूफ जैकेट का काम करता है. इस जल की रासायनिक जांच होने के बाद ही पता चल सकता है कि यह देवी का चमत्कार है या किसी रसायन का प्रभाव है.



(रिपोर्ट- चंचल संध्या)
Loading...

ये भी पढ़ें- एयरपोर्ट पर एयर होस्टेस को गरबा करते देख थिरकने लगे पैसेंजर्स भी

विजयादशमी पर बाड़मेर में राजघराने की ओर से हुई शस्त्र पूजा, निकली पदयात्रा भी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए प्रतापगढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 8, 2019, 7:56 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...