पुष्कर में हुआ साधु-संतों का सम्मेलन, अयोध्या में होगा रामभक्तों के सहयोग से मंदिर का निर्माण

पुष्कर में आयोजित साधु-संतों के सम्मेलन का विधिवत उद्घाटन दीप प्रज्वलित कर हुआ.

पुष्कर में हुआ साधु-संतों का सम्मेलन. महामंडलेश्वर स्वामी हंसराम उदासीन ने कहा कि राजस्थान ही नहीं, बल्कि देशभर के साधु-संत मंदिर निर्माण को लेकर जनजागरण अभियान चला रहे हैं.

  • Share this:
    पुष्कर. अयोध्या में निर्माणाधीन राम मंदिर में सभी रामभक्तों का सहयोग होना चाहिए. संत समाज इसके लिए तत्पर है. ये बातें 3 जनवरी को पुष्कर में साधु-संतों ने कहीं. वे पुष्कर स्थित ब्रह्मा सावित्री वेद विद्या पीठ परिसर में आयोजित एक सम्मेलन में शामिल हुए थे. विश्व हिन्दू परिषद के चित्तौड़ प्रांत के पदाधिकारियों ने यह सम्मेलन आयोजित किया था.

    भीलवाड़ा स्थित हरिसेवा उदासीन आश्रम सनातन मंदिर के महामंडलेश्वर स्वामी हंसराम उदासीन ने कहा कि राजस्थान ही नहीं, बल्कि देशभर के साधु-संत मंदिर निर्माण को लेकर जनजागरण अभियान चला रहे हैं. गांव-ढाणी तक में अपना आश्रम चलाने वाले संतगण सक्रिय हैं. वे स्वयं भी अपने प्रवचनों में श्रद्धालुओं को प्रेरित कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि गत 500 वर्षों से मंदिर निर्माण का इंतजार हो रहा था. इस अवधि में रामभक्तों ने बड़ी संख्या में कुर्बानियां भी दीं. अब रामभक्तों का सपना साकार होने जा रहा है.

    मंदिर निर्माण को लेकर देश में उत्साह का माहौल

    सम्मेलन में कथावाचक दिव्य मुरारी बापू, चिति योग संस्थान की प्रमुख साध्वी अनादि सरस्वती ने भी अपने विचार रखे. स्वामी अनादि सरस्वती ने कहा कि मंदिर निर्माण में देश के हर नागरिक की आहूति होनी चाहिए. यह महायज्ञ है. सम्मेलन में उपस्थित राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रचारक और मंदिर निर्माण से जुड़े उमाशंकर ने कहा कि अयोध्या में बनने वाला भव्य मंदिर कोई सरकार अथवा संस्था नहीं बना सकती. इसके लिए रामभक्तों का सहयोग जरूरी है. यही वजह है कि संघ से जुड़े अनेक संगठनों ने जनजागरण अभियान चलाया है. इसके अंतर्गत देश के 51 करोड़ रामभक्तों से संपर्क साधा जाएगा. उन्होंने बताया कि 15 जनवरी से 1 फरवरी तक देश भर में अभियान चलाकर विभिन्न संस्थाओं समूह आदि से संपर्क किया जाएगा. इसके अंतर्गत मंदिर निर्माण के लिए आर्थिक सहयोग लिया जाएगा. उमा शंकर ने स्पष्ट कहा कि जिस व्यक्ति से भी सहयोग लिया जाएगा, उसे मंदिर निर्माण ट्रस्ट की रसीद दी जाएगी. उन्होंने कहा कि मंदिर निर्माण को लेकर देशभर में उत्साह का माहौल है.

    ये आए थे सम्मेलन में

    संत सम्मेलन में भीलवाड़ा के हरिसेवा उदासीन आश्रम सनातन मंदिर के महामंडलेश्वर स्वामी हंसराम उदासीन, निम्बार्क सम्प्रदाय के प्रतिनिधि के रूप में संत मोहन शरण जी महाराज, महामंडलेश्वर एवं श्रीराम कथा वाचक पूज्य मोरारी बापू के सानिध्य में स्थानीय चित्रकूट आश्रम के उपासक संत पाठक महाराज, चित्ती योग संस्थान की उपासक अनादि सरस्वती, अंतरराष्ट्रीय संत कृष्णा नंद जी महाराज, रमैय्या राम आश्रम के महंत प्रेम दास जी महाराज, गिरिशानंद आश्रम के महंत रामानंद जी महाराज, नांद गौशाला से समता राम जी महाराज, राम स्नेही आश्रम से संत जगवल्लभ महाराज, गुलाबदास आश्रम के राजाराम जी महाराज, विश्व हिंदू परिषद के केंद्रीय मंत्री उमाशंकर शर्मा और धनराज जी सहित कई गणमान्य नागरिक मौजूद थे.