लाइव टीवी

पूर्वजों की आत्मा की शान्ति के लिए लोगों ने किए पिण्डदान

News18 Rajasthan
Updated: October 10, 2018, 12:42 AM IST
पूर्वजों की आत्मा की शान्ति के लिए लोगों ने किए पिण्डदान
धार्मिक नगरी पुष्कर में पूर्वजों की आत्मा की शान्ति के लिए लोगों ने पिण्डदान किए.श्राद्ध पक्ष का आखिरी दिन होने के कारण मंगलवार को देश के कोने -कोने से यहांं श्रद्धालु पहुचे.

धार्मिक नगरी पुष्कर में पूर्वजों की आत्मा की शान्ति के लिए लोगों ने पिण्डदान किए.श्राद्ध पक्ष का आखिरी दिन होने के कारण मंगलवार को देश के कोने -कोने से यहांं श्रद्धालु पहुचे.

  • Share this:
धार्मिक नगरी पुष्कर में अपने पूर्वजों की आत्मा की शान्ति  के लिए उनके पिण्डदान करने की मान्यता सदियों से चली आ रही है.विशेषकर श्राद्ध पक्ष में पिण्डदान करने से व्यक्ति पितृ ऋण से मुक्त होता है इसका उल्लेख पद्मपुराण में भी  किया गया है. भगवान राम ने भी अपने पिता दशरथ का पुष्कर में श्राद्ध किया था. इसी मान्यता से प्रेरित होकर श्राद्ध पक्ष के आखिरी दिन मंगलवार को देश के कोने -कोने से सैकड़ों  श्रद्धालु पुष्कर पहुचे.

उन्होंने सरोवर में डूबकी लगाने के बाद अपने पूर्वजों की आत्मा की शांति के लिए  पिंडदान और तर्पण किए . अमावस्या के दिन सात कुल के पूर्वजों के पिंडदान कर श्रदालुओं ने धर्म लाभ प्राप्त किया. वैसे तो धार्मिक नगरी पुष्कर में पूरे साल अलग-अलग तरह के धार्मिक आयोजन चलते रहते है लेकिन श्राद्ध पक्ष के दौरान घाटों पर एक अलग सा दृश्य देखने को मिलता है.

हर तरफ पिंडो में अपने पूर्वजो की आत्मा को ढूंढते श्रद्धालुओं का सैलाब इस बात का प्रमाण है कि आज के इस आधुनिक युग में भी लोग कही न कही अपने इतिहास और संस्कृति से जुड़े हुए है.   इस दौरान सप्तऋषि घाट पर संसदीय सचिव सुरेश सिंह रावत ने भी अपने पूर्वजों के पिंडदान कर तर्पण किया जो कि चर्चा का विषय रहा. लोगो का मानना है कि रावत एक बार फिर आगामी चुनाव में अपनी किस्मत आजमाना चाहते हैं. इसके लिए अनुष्ठान किया गया.
(रिपोर्ट- अनिल शर्मा)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पुष्कर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 10, 2018, 12:42 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...