राजस्थान उपचुनाव: नामांकन रैलियों में बीजेपी में साफ दिखी फूट, वसुंधरा राजे रहीं गायब

राजस्थान उपचुनाव में बीजेपी के अंदर इस बार फूट देखने को मिल रही है.

राजस्थान उपचुनाव में बीजेपी के अंदर इस बार फूट देखने को मिल रही है.

राजस्थान (Rajasthan) उपचुनाव में नामांकन रैलियों में प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधराराजे (Vasundhararaje) एक भी उम्मीदवार के साथ नामांकन रैली में शामिल नहीं हुई हैं. जबकि बीजेपी (BJP) में उनके विरोधी नेता इन रैलियों में शामिल हुये हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 31, 2021, 5:50 PM IST
  • Share this:

जयपुर. राजस्थान (Rajastha) में तीन विधानसभा सीटों के उप चुनाव (By Election) के लिए आज नामांकन दाखिल किया गया. नामांकन रैलियों में जहां एक ओर गहलोत (Gahlot) और पायलट (Pilot) ने एक साथ चौपर में यात्रा कर एक मंच से एकता का संदेश दिया, वहीं दूसरी और नामांकन रैलियों में बीजेपी (BJP) में फूट नजर आई. वसुंधराराजे इस नामांकन रैली से गायब रहीं, लेकिन गजेंद्र शेखावत राजे विरोधी गुट के नेताओं के साथ मौजूद रहे.

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत आज अपने धुर विरोधी सचिन पायलट के साथ जयपुर से चौपर में सुजानगढ़ पहुंचे. फिर सुजानगगढ विधानसभा उप चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी मनोज मेघवाल की नामांकन रैली को एक मंच से गहलोत और पायलट दोनों ने संबोधित किया. दोनों के साथ मंच पर थे कांग्रेस प्रभारी अजय माकन और पीसीसी चीफ गोविंद डोटासरा.

Youtube Video

पायलट समर्थक पिछले एक महीने से लगातार गहलोत पर हमला बोल रहे थे. दोनों गुट के बीच कड़वाहट इतनी बढ़ गई थी कि गहलोत-पायलट काफी वक्त से एक दूसरे के साथ नहीं दिखे, लेकिन पार्टी हाईकमान की सलाह के बाद तीन विधानसभा उप चुनाव में जीत के लिए एक मंच पर आ गए. दोनों में मनमुटाव मंच से न दिखे इसलिए प्रभारी अजय माकन हर वक्त साथ रहे.
राजस्थान विधानसभा उपचुनाव: सुजानगढ़ में बैनर से पायलट का फोटो नदारद, बाद में चिपकाया


आखिर बीजेपी में क्या चल रहा है?



दूसरी ओर राजसमंद से बीजेपी प्रत्याशी दीप्ती माहेश्वरी की नांमाकन रैली हुई. रैली के मंच पर केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, विपक्ष के नेता गुलाब चंद कटारिया, प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया मौजूद रहे, किन पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधराराजे नहीं आईं. राजे न सुजानगढ़ में थी, न राजसमंद न ही सहाड़ा में बीजेपी की नामांकन रैली में थी. लेकिन राजे विरोधी बीजेपी के अधिकतर नेता मौजूद थे.

राजस्थान में 17 अप्रैल को राजसमंद सहाड़ा और सुजानगढ़ सीट पर उप चुनाव है. आज नामांकन की आखिरी तारीख थी. बीजेपी और कांग्रस दोनों ने आज तीन सीटों पर प्रत्याशियों का नामांकन दाखिल कराने के साथ ही नामांकन रैलियां की हैं.

वसुंधराराराजे और राजे विरोधी नेताओं में तब ठन गई थी जब आठ मार्च को राजे ने अपने जन्म दिवस पर देव दर्शन यात्रा से शक्ति प्रदर्शन किया. करीब 33 विधायक तब राजे के शक्ति प्रदर्शन में पहुंचे थे, लेकिन उप चुनाव में राजे को अलग-थलग करने से साफ है कि उप चुनाव में पार्टी की गुटबाजी का असर पड़ सकता है. दूसरी तरफ कांग्रेस ने गहलोत पायलट को फिहहाल साथ कर गुटबाजी से होने वाले नुकसान को कम कर लिया है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज