राजस्थान की किताबों में सती और जौहर के तथ्य 'बदलने' पर नेताओं के बीच ट्विटर 'वॉर'

करणी सेना और श्री राजपूत करणी सेना ने भी पाठयक्रम में कथित बदलाव का विरोध किया है .

News18Hindi
Updated: May 16, 2019, 1:49 PM IST
राजस्थान की किताबों में सती और जौहर के तथ्य 'बदलने' पर नेताओं के बीच ट्विटर 'वॉर'
प्रतीकात्मक तस्वीर
News18Hindi
Updated: May 16, 2019, 1:49 PM IST
राजस्थान में स्कूली पाठ्यक्रम की किताबों में अब सती और जौहर प्रथा और नोटबंदी से जुड़े तथ्यों में कथित बदलाव को लेकर कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी में आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है. बीजेपी की पूर्व विधायक दीयाकुमारी ने सरकार के कदमों पर आपत्ति जताते हुए इसे राजस्थान के इतिहास का अपमान बताया है .

दरअसल राज्य की कांग्रेस सरकार ने पाठ्यक्रम में कुछ बदलाव प्रस्तावित किए हैं जिनके तहत आठवीं कक्षा में अंग्रेजी की किताब के पहले अध्याय में रानी पद्मावती व अन्य महिलाओं के जौहर का एक चित्र था जिसे हटाकर उसकी जगह केवल दुर्ग का चित्र लगाया गया है . बीजेपी ने इसे सतीत्व का अपमान बताया है.



दीयाकुमारी ने ट्विटर पर लिखा है, ‘राजस्थान में कांग्रेस सरकार द्वारा पाठ्यक्रमों में बदलाव से पहले वीर सावरकर और अब शौर्य के प्रतीक महाराणा प्रताप व सतीत्व की सर्वोच्च उदहारण रानी सती का अपमान करना वीरों की भूमि राजस्थान और हमारे सुनहरे इतिहास का अपमान करना है.’

यह भी पढ़ें: स्कूली शिक्षा में 'सावरकर' पर तेज हुई सियासत, शिक्षामंत्री ने दिए ये तर्क












पूर्व शिक्षा मंत्री वासुदेव देवनानी ने ट्विटर पर लिखा है, ‘जिसे सती प्रथा और जौहर में अंतर का ज्ञान नहीं है वह शिक्षा मंत्री रहने के योग्य नहीं.’

स्कूली शिक्षा मंत्री ने कहा

वहीं स्कूली शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा, ‘दीयाकुमारी कल तो सती की बात कर रही थीं, अब वह जौहर और सती के अंतर का सवाल उठा रही हैं . सती प्रथा प्रतिबंधित है तो जौहर का अंग्रेजी की किताब में क्या मतलब? यह कहीं भी स्पष्ट नहीं किया गया है कि यह चित्र जौहर का है या सती प्रथा से जुड़ा है.’

इस बीच करणी सेना और श्री राजपूत करणी सेना ने भी पाठयक्रम में कथित बदलाव का विरोध किया है .

यह भी पढ़ें:  मां ने पहचाना हुनर, तो दिव्यांग बेटे ने देश विदेश में बनाई खास पहचान

इससे पहले कांग्रेस सरकार ने दसवीं कक्षा की सामाजिक विज्ञान की किताब में आरएसएस विचारक विनय दामोदर सावरकर से जुड़े पाठ में उनके नाम के आगे से 'वीर' हटा दिया है . दिसंबर में जब गहलोत सरकार बनी तो उसने पाठ्यक्रम समीक्षा समिति बनाई जिसकी सलाह पर सावरकर की जीवनी में बदलाव किया गया है .
एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...