लाइव टीवी

बाड़मेर पंडाल हादसा: 'चारों तरफ लोग चीख पुकार कर रहे थे, मेरे सामने 3 ने दम तोड़ा'

News18Hindi
Updated: June 24, 2019, 11:15 AM IST
बाड़मेर पंडाल हादसा: 'चारों तरफ लोग चीख पुकार कर रहे थे, मेरे सामने 3 ने दम तोड़ा'
बाड़मेर पंडाल हादसे में अबतक 15 लोगों की मौत हो चुकी है

प्रत्यक्षदर्शी देवाराम का कहना है कि रामकथा के दौरान हल्की बारिश हो रही थी. तभी अचानक से तेज आंधी आई, तो कथावाचक ने पंडाल में मौजूद लोगों से पंडाल खाली करने को कहा. बारिश के कारण टेंट में लोहे के पोल्स में करंट दौड़ गया और जिस किसी ने भी इसे छुआ वो करंट की चपेट में आ गया

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 24, 2019, 11:15 AM IST
  • Share this:
राजस्थान के बाड़मेर में रविवार को राम कथा के दौरान हुए पंडाल हादसे में मरने वालों की संख्या बढ़कर 15 हो गई है. सोमवार को हादसे में गंभीर रूप से घायल पोकर राम ने एम्स में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया. साथ ही इस हादसे में मृतकों के साथ 58 लोग घायल भी हुए हैं. जिनका का अलग-अलग अस्पतालों में इलाज चल रहा है. मृतकों और घायलों के परिजनों से मिलकर उन्हें सांत्वना देने के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत भी मौके पर पहुंच रहे हैं.

कैसे क्या हुआ
राजस्थान पत्रिका पर छपी एक खबर में प्रत्यक्षदर्शी देवाराम ने पूरी घटना के बारे में विस्तार से बताया है. देवाराम का कहना है कि कथा के दौरान हल्की बारिश हो रही थी. तभी अचानक से तेज आंधी आई, तो कथावाचक ने पंडाल में मौजूद लोगों से पंडाल खाली करने को कहा. बारिश के कारण टेंट में लोहे के पोल्स में करंट दौड़ गया और जिस किसी ने भी इसे छुआ वो करंट की चपेट में आ गया. उन्होंने बताया कि मेरे सामने तीन लोगों ने दम तोड़ दिया. हर तरफ लोग चीख पुकार रहे थे. मेरे साथ कुछ लोगों ने जोर से चिल्लाया कि बिजली बंद करो. फिर कुछ युवाओं ने बड़ी हिम्मत दिखाते हुए तारों को खींचकर बिजली बंद करी.

5-5 लाख रुपए की आर्थिक सहायता

गहलोत ने इस हादसे की जानकारी मिलते ही प्रशासन, पुलिस, आपदा प्रबन्धन एवं चिकित्सा अधिकारियों को राहत एवं बचाव कार्यों एवं उपचार के लिए उचित निर्देश दिए. उन्होंने हादसे के मृतकों के परिजनों को 5-5 लाख रुपए की सहायता राशि देने का ऐलान किया. साथ ही हादसे में घायलों को भी अधिकतम 2 लाख रुपए की सहायता राशि देने की घोषणा की.

अस्पतालों में इलाज फ्री करने के निर्देश
सीएम गहलोत ने रविवार शाम मुख्यमंत्री कार्यालय में उच्चाधिकारियों के साथ हुई आपात बैठक में जसोल में हुए हादसे के बाद राहत एवं बचाव कार्यों की समीक्षा की. उन्होंने पीड़ितों को जल्द से जल्द राहत देने और निःशुल्क उपचार के लिए जोधपुर संभागीय मुख्यालय से अतिरिक्त चिकित्सा टीमों, नर्सिंग स्टाफ, दवाइयां की उपलब्धता सुनिश्चित करने तथा पुलिस, प्रशासनिक सहायता एवं आपदा प्रबन्धन व्यवस्था कराने के निर्देश दिए.
Loading...

ये भी पढ़ें- बाड़मेर हादसा: पंडाल गिरने के साथ ही चीखों से कांप उठा जसोल

ये भी पढ़ें- बाड़मेर में आंधी-तूफान का कहर: रामकथा का पंडाल गिरा, करंट लगने से 14 श्रद्धालुओं की मौत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बाड़मेर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 24, 2019, 10:46 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...