राजस्‍थान: अब इन छात्रों को नहीं देनी होगी 10वीं और 12वीं की परीक्षा, बोर्ड ने जारी किया आदेश

कर्नाटक 2nd पीयूसी एग्जाम के लिए राज्य भर में एक हजार से ज्यादा परीक्षा केंद्र बनाए गए थे.
कर्नाटक 2nd पीयूसी एग्जाम के लिए राज्य भर में एक हजार से ज्यादा परीक्षा केंद्र बनाए गए थे.

नेत्रहीन (Blind) और लिखने में असमर्थ विद्यार्थियों (Students) को राजस्‍थान माध्‍यमिक शिक्षा बोर्ड (Rajasthan Board of Secondary Education) ने 10वीं और 12वीं की परीक्षा (Examination) से मुक्‍त कर दिया है.

  • Share this:

जयपुर. राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (Rajasthan Board of Secondary Education) ने एक बड़ा फैसला लेते हुए विशेष श्रेणी के परीक्षार्थियों (Students) विशेष राहत देने का फैसला किया है. फैसले के तहत, विशेष श्रेणी के परीक्षार्थियों को 18 जून से शुरू हो रही लंबित विषयों की परीक्षा (Examinations) से मुक्त कर दिया गया है. इन परीक्षार्थियो को पूर्व में दी गई विषयों (Subjects) की परीक्षा के अंक के आधार पर औसत अंक (Average Marks) दिए जाएंगे.


राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड अध्यक्ष डॉ डीपी जारोली ने बताया कि 18 जून से 12वीं और 10वीं के लंबित विषयों की परीक्षा शुरू हो रही हैं. बोर्ड ने अहम फैसला लेते हुए नेत्रहीन और लिखने में असमर्थ परीक्षार्थियों को इन परीक्षाओं से मुक्‍त करने का फैसला लिया है.


साथ ही, उन परीक्षार्थी भी परीक्षा से मुक्त किया गया हैं, जिन्हें मेडिकल प्रमाण पत्र में 75 फीसदी दिव्यांगता के आधार पर श्रुतिलेखक की सुविधा उपलब्ध होता थी. बोर्ड इन छात्रों की पूर्व में ली गई विषयों की परीक्षा के औसत प्राप्तांकों के आधार पर परिणाम जारी करेगा.


इन संस्‍थाओं की मांग पर बोर्ड ने लिया फैसला
उल्‍लेखनीय है कि बोर्ड अध्यक्ष डॉ. डीपी जारोली से राजस्थान नेत्रहीन सेवा संघ के साथ कई अन्य संस्थाओं ने मांग की थी कि कोरोना संकट के चलते इन विशेष श्रेणी वाले परीक्षार्थियों को बाकी बची विषयों की परीक्षायों से मुक्त किया जाए.


बोर्ड ने सभी परिस्थियों को देखते हुए ऐसे परीक्षार्थियो को सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखते हुए राहत दी है. आपको बता दें कि बोर्ड की 12वी की लंबित विषयो की परीक्षा 18 जून से शुरू हो रही है और 30 जून को समाप्त होंगी. वहीं, 10वीं की 29 और 30 जून को ली जाएगी.


 बोर्ड ने सैनिटाइजेशन के लिए दिए 300 रुपए


राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने कोरोना को देखते हुए प्रदेश में 521 नए उप परीक्षा केंद्र बनाए है. इन नए उपकेंद्र पर बैठने वाले परीक्षार्थियो के प्रवेशपत्र बोर्ड की वेबसाइट पर उपलब्ध है, जहां से उन्हें डाउनलोड किया जा सकता है. साथ ही बोर्ड ने सभी परीक्षा केंद्रों को सेनिटीज़शन के लिए 300 रुपये स्वीकृत किये है.




अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज