अंतिम संस्कार के पति के पास नहीं थे पैसे, कूड़ा गाड़ी में गया पत्नी का शव

पालिका कर्मियों ने शव के साथ भी ऐसा ही व्यवहार किया जैसे वह कोई कचरा हो, नाथद्वारा में एक महिला की मौत के बाद उसके शव को कचरा संग्रहण वाहन मे कचरे की तरह डालकर अंतिम संस्कार के लिए ले जाया गया.

News18 Rajasthan
Updated: May 4, 2019, 12:32 PM IST
News18 Rajasthan
Updated: May 4, 2019, 12:32 PM IST
राजस्थान के राजसमंद स्थित प्रसिद्ध धर्मनगरी नाथद्वारा में स्थानीय नगर पालिका और पुलिस ने मानवता को इस कदर शर्मसार किया कि देखने वालों की रूह कांप जाए. दरअसल पालिका कर्मियों ने शव के साथ भी ऐसा ही व्यवहार किया जैसे वह कोई कचरा हो, दरअसल नाथद्वारा में एक महिला की मौत के बाद उसके शव को कचरा संग्रहण वाहन मे कचरे की तरह डालकर अंतिम संस्कार के लिए ले जाया गया. इस दौरान नगर पालिका कर्मचारियों के साथ नाथद्वारा पुलिस और अस्पताल स्टाफ भी मौजूद था.

जानकारी के अनुसार बागोल रोड पर एक अनियंत्रित ट्रक की चपेट मे आने से स्कूटी पर सवार एक युवक घायल हो गया, जबकि पीछे बैठी उसकी पत्नी की मौके पर ही मौत हो गई, पुलिस ने शव नाथद्वारा सीएससी की मोर्चरी में रखवाकर अगले दिन पोस्टमार्टम करवा दिया.



शुक्रवार को पुलिस ने महिला के पति को घटना की सूचना दी, जिसके बाद पति गरीब मजदूर होने के कारण पति ने अंतिम संस्कार कराने में असमर्थता जाहिर की. ऐसे मे पुलिस ने नगर पालिका के सहयोग से अंतिम संस्कार करवाया, लेकिन कचरे की गाड़ी मे कचरे की तरह शव को फेंका गया और उसके बाद अंतिम संस्कार कर दिया गया.

( राजसमंद से तरूण की रिपोर्ट )

यह भी देखें- शर्मनाक: अंतिम संस्कार के लिए कचरा गाड़ी में ढोया गया महिला का शव

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडे
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...