इंसाफ के लिए नौ दिन से भूख हड़ताल पर बैठा रेप पीड़िता का परिवार, गिरफ्तारी की लगाई गुहार

रेप पीड़िता का परिवार न्याय की मांग को लेकर खेत में 9 दिन से भूख हड़ताल कर रहा है.
रेप पीड़िता का परिवार न्याय की मांग को लेकर खेत में 9 दिन से भूख हड़ताल कर रहा है.

रेप पीड़िता(Rape Victim) के परिजनों का आरोप है कि पुलिस (Police) रेप के आरोपियों को पकड़ नहीं रही है. इसलिए वो न्याय की मांग को लेकर अपने खेत में नौ दिनों से भूख हड़ताल (Hunger strike) कर रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 20, 2020, 6:50 PM IST
  • Share this:
जयपुर. राजस्थान (Rajasthan) में रेप (Rape) और महिलाओं के प्रति होने वाले अत्याचार के मामले बढ़ते ही जा रहे हैं. क्योंकि यहां की पुलिस (Police) रेप करने वालों और महिलाओं (Women) के प्रति अपराध करने वालों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर रही है. जिले एक गांव में एक बच्ची के साथ रेप होता है और उसके परिजन आरोपी के खिलाफ नामजद रेप का केस दर्ज कराते हैं. लेकिन घटना के 10 दिन बाद भी पुलिस आरोपी को गिरफ्तार नहीं करती है. पुलिस की इस कार्यशैली से परेशान पीड़ित परिवार अब न्याय के भूखे पेट खेत में नौ दिनों से धरना दे रहा है.

दरअसल जोधपुर के फलौदी में स्थित चाकू थाना क्षेत्र में माता-पिता पिछले 9 दिनों से भूख हड़ताल पर हैं. उनके साथ दो मासूम भी पिछले 9 दिनों से धरने पर हैं. इस परिवार का आरोप है कि इनके खेत में काम करने वाले एक व्यक्ति इनके बच्ची को घर में अकेली देखकर उसके साथ रेप किया. इतना ही नहीं आरोपी ने बच्ची को घटना के बारे में किसी को बताने पर जान से मारने की धमकी दी. आरोपी ने इतना करने के बाद एक दिन अपने एक दोस्त के साथ आया और दोनों लोगों ने लड़की से रेप किया और फरार हो गये.

Alwar: एटीएम कार्ड का क्लोन बनाने वाले गिरोह का खुलासा, 8 राज्यों के 23 बड़े शहरों में कर चुके हैं वारदातें



पीड़ित परिवार का आरोप है कि स्कूल में एक टीचर ने भी एक बार बच्ची से छेड़छाड़ की थी, जिसकी शिकायत उन्होंने थाने में दी थी, जिप पर पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की. पीड़ित परिवार का आरोप हा कि चाखू थाने की पुलिस मामले में कार्रवाई करने की बजाए टालमटोल करने में लगी है. इससे परेशा होकर पीड़ित परिवार अपने ही खेत में भूख हड़ताल पर बैठ गया. पीड़िता के परिजनों का कहना है कि जब तक आरोपियों को पुलिस गिरफ्तार नहीं करेगी भले ही उनकी जान चली जाए वह भूख हड़ताल पर बैठे रहेंगे. पीड़ित परिवार का कहना है कि उन्हें और उनकी बेटी दोनों को तभी न्याय मिलेगा जब आरोपी जेल में होंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज