खुले बोरवेल ने ली एक और मासूम की जान, नहीं बचाया जा सका अमन
Sawai-Madhopur News in Hindi

खुले बोरवेल ने ली एक और मासूम की जान, नहीं बचाया जा सका अमन
मासूम की जिंदगी को निगल गया बोरवेल.

खुला बोरवेल एक बार फिर किसी मासूम की जिंदगी को निगल गया.

  • Share this:
राजस्थान के सवाई माधोपुर में खुला बोरवेल एक बार फिर किसी मासूम की जिंदगी को निगल गया. पुलिस प्रशासन तथा रेस्क्यू टीम ने बेहद प्रयास किया लेकिन आखिरकार मासूम अमन की जिंदगी नहीं बचा सके.

बोरवेल में गिरने से मासूम की सांसे थम गई और परिवार सिर्फ रोते बिलखते रह गया. किसी ने सोचा भी न था कि सवाई माधोपुर जिले के पनीयाला गांव के रहने वाले नरेश बैरवा पर यूं दुखों का पहाड़ टूटेगा. नरेश का पांच वर्षीय पुत्र अमन खेलता हुआ पास मे खुले पड़े बोरवेल मे जा गिरा. छोटे छोटे बच्चो ने जब इसकी सूचना परिजनों को दी तभी मौके पर ग्रामीण इकट्टा होने लगे. हालांकि बोरवेल के मालिक पूर्व सरपंच रमेश ने इस मामले मे काफी टालमटोल किया और बोरवेल में बच्चा नहीं होने की बात पर अड़ा रहा. लेकिन फिर ग्रामीणों के गुस्से के आगे वो मौके से फरार हो गया.

ग्रामीणों ने घटना की सूचना पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों को दी. मौके पर पहुंचे पुलिस प्रशासन ने तुरंत रेस्क्यू आपरेशन शुरू कर दिया. चार जेसीबी और एक एलएंडटी मशीन से बोरवेल के बराबर गहरा गड्ढा किया गया. मासूम अमन बोरवेल मे तीस फिट नीचे जा गिरा था तभी मौके पर अजमेर से एनडीआरएफ़ की टीम भी मौके पर पहुंच गई और रेस्क्यू मे गति अपनाते हुए कार्य किया गया. 35 फिट गहरी खुदाई करने के बाद बोरवेल की और सुरंग बनाई गई और बच्चे को निकाला गया. ये रेस्क्यू आपरेशन 12 घंटे तक चला. लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी .मासूम अमन की सांसे बोरवेल मे ही थम चुकी थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading