होम /न्यूज /राजस्थान /चौथ का बरवाड़ा: प्लेटफार्म की लंबाई कम होने से हो रहे हादसे, 80 से ज्यादा यात्री घायल, लेकिन नहीं बदले हालात

चौथ का बरवाड़ा: प्लेटफार्म की लंबाई कम होने से हो रहे हादसे, 80 से ज्यादा यात्री घायल, लेकिन नहीं बदले हालात

चौथ का बरवाड़ा पर उतरते यात्री.

चौथ का बरवाड़ा पर उतरते यात्री.

यात्री अशफाक खान ने बताया कि पिछले 2 सालों के दौरान यहां करीब 80 से ज्यादा यात्री घायल हो चुके है. कई बार रेलवे प्रशासन ...अधिक पढ़ें

    गजानंद शर्मा/सवाई माधोपुर. चौथ का बरवाड़ा रेलवे प्लेटफार्म की लंबाई ट्रेनों से कम है. जिसके चलते यहां यात्रियों को खासी परेशानियों का सामना करना पड़ता है. यहां आने वाली ट्रेनों की लंबाई 1750 फीट से ज्यादा है और प्लेटफार्म की लंबाई 1500 फीट है. जिसकी वजह से यात्रियों को गिट्टी पर चढ़ना उतरना पड़ता है. प्लेटफार्म की लंबाई कम होने के चलते यहां कई यात्री घायल हो चुके है. लोगों ने इस समस्या को लेकर जीएम से लेकर अन्य अधिकारियों को कई बार अवगत कराया, लेकिन हालात जस के तस बने हुए है.

    गौरतलब है कि चौथ का बरवाड़ा कस्बे में देश का सबसे बड़ा चौथ माता का प्रसिद्ध मंदिर स्थित है. यहां बड़ी संख्या में लोग रोजाना ट्रेनों से आवागमन करते हैं. जिन्हें प्लेटफार्म पर सुविधाएं नहीं मिलने से परेशानियों का सामना करना पड़ता है. यहां यात्रियों को सबसे बड़ी समस्या ट्रेनों में चढ़ने-उतरने के समय आती है. चौथ का बरवाड़ा स्टेशन पर प्लेटफार्म छोटा होने की वजह से एक्सप्रेस ट्रेनों की बोगी प्लेटफार्म के बाहर निकल जाती है. जिससे यात्रियों को चढ़ने-उतरने में परेशानी उठानी पड़ती है.

    यात्री आशीष उपाध्याय ने बताया कि एक्सप्रेस ट्रेनों में जनरल कैटेगरी के डिब्बे आगे और पीछे आते हैं. जिनमें ही ज्यादातर स्थानीय यात्री चढ़ते उतरते है. ऐसे में यह सभी डिब्बे प्लेटफार्म पर नहीं आने से यात्रियों को झाड़ियों और गिट्टी पर उतरना पड़ता है. यात्री अशफाक खान ने बताया कि पिछले 2 सालों के दौरान यहां करीब 80 से ज्यादा यात्री घायल हो चुके है. कई बार रेलवे प्रशासन को अवगत कराया जा चुका है, लेकिन हालात जस के तस बने हुए है.

    चौथ का बरवाड़ा प्लेटफार्म नम्बर एक की लंबाई 1500 फीट है. वहीं प्लेटफार्म नम्बर दो की लंबाई 1000 फीट से कम है. जबकि एक्सप्रेस ट्रेनों की बात की जाए तो ट्रेन में 24 से लेकर 25 डिब्बे लगे रहते हैं. इनमें एक डिब्बे की लंबाई करीब 70 फीट होने के कारण ट्रेनों की लंबाई 1750 फीट से अधिक होती है. जिसकी वजह से आगे पीछे के डिब्बे प्लेटफार्म पर नहीं आ पाते हैं. ऐसे में चढ़ने उतरने में यात्रियों को परेशानी होती है.

    चौथ का बरवाड़ा रेलवे स्टेशन अधीक्षक रोशन मीणा का कहना है कि वर्तमान में प्लेटफार्म नम्बर की लंबाई 421 मीटर है। जबकि प्लेटफार्म नम्बर दो की लम्बाई 300 मीटर के करीब है. जिसके चलते चार पांच कोच प्लेटफार्म से बाहर रहते हैं. ऐसे में प्लेटफार्म की लंबाई 650 मीटर होना चाहिए. जिससे यात्रियों को प्लेटफार्म से नीचे उतरना पड़ता है और गिट्टी पर चढ़कर ट्रेन के कोच में बैठते हैं. कई बार उच्च अधिकारी को मामले के बारे में अवगत करा दिया है.

    Tags: Rajasthan news, Sawai madhopur news

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें