Rajasthan: फिर सुलगने लगी गुर्जर आरक्षण की आग, केन्द्र और राज्य सरकार को 15 दिन का अल्टीमेटम

गंगापुर सिटी में मीटिंग में जुटे गुर्जर समाज के नेता.
गंगापुर सिटी में मीटिंग में जुटे गुर्जर समाज के नेता.

राजस्थान में बरसों से चल रही गुर्जर आरक्षण (Gujjar Reservation) की मांग एक बार फिर सुलगने लगी है. इसको लेकर समाज के नेता फिर एक मंच पर आने लगे हैं.

  • Share this:
सवाई माधोपुर. आरक्षण (Gujjar Reservation) को लेकर राजस्थान में गुर्जर समाज ने एक बार फिर हुंकार भरी है. आरक्षणको लेकर गुर्जर समाज फिर धीरे-धीरे एकजुट हो रहा है. समाज के नेताओं ने राज्य और केन्द्र सरकार पर वादा खिलाफी का आरोप लगाते हुये मांगें पूरी किये जाने का अल्टीमेटम (Ultimatum) दिया है. समाज के नेताओं ने कहा कि अगर ऐसा नहीं हुआ गुर्जर एक बार फिर सड़कों पर उतर सकता है. गुर्जर समाज ने सरकार को 15 दिनों का अल्‍टीमेटम दिया है.

गुर्जर आरक्षण की राह में अटक रहे रोड़े दूर करने के लिये गुर्जर नेता फिर से सरकार के खिलाफ खड़े होने लग गये हैं. आरक्षण की आग धीरे-धीरे फिर सुलगने लग गई है. इसे लेकर गुर्जर समाज के नेता गुरुवार को सवाई माधोपुर जिले के गंगापुर सिटी कस्बे में जुटे. गंगापुर सिटी के देवनारायण मंदिर में गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के नेता कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला के आह्वान पर समाज के लोग एकत्रित हुए. यहां पर बैंसला के बेटे गुर्जर नेता विजय बैंसला और भूरा भगत सहित कई सरपंच तथा प्रबुद्ध जन देवनारायण भगवान की हिंगोटिया स्थित मंदिर पहुंचे. यहां गुर्जर समाज के लोगों को आरक्षण की आगामी लड़ाई के लिए आमंत्रित किया गया था.

Rajasthan: कोरोना पॉजिटिव प्रत्याशी के लिए नया दिशा-निर्देश, पर्चा भरने से पहले जान लें ये बातें



आर-पार की लड़ाई मूड में गुर्जर समाज
गुर्जर नेता विजय बैंसला ने राज्य सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि गुर्जर आरक्षण का मसौदा अभी भी पूरी तरह से तैयार नहीं हुआ है. ऐसे में उन्होंने इसके लिये राज्य सरकार को 15 दिन का अल्टीमेटम दिया है. इसके अलावा उन्होंने केंद्र सरकार पर भी निशाना साधते कहा कि गुर्जर आरक्षण को 9वीं अनुसूची में शामिल किया जाना था, लेकिन यह भी अभी तक नहीं किया जा सका है. इसके लिये उन्होंने केंद्र सरकार को 30 दिन का अल्टीमेटम दिया है. इसके पश्चात उन्होंने समाज से आह्वान किया कि गुर्जर आरक्षण की मांग राज्य और केंद्र सरकार द्वारा नहीं मानी गई तो एक बार फिर से गुर्जर समाज आर-पार की लड़ाई लड़ेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज