लाइव टीवी

महाशिवरात्रि 2017: आस्था का प्रतीक है घुश्मेश्वर महादेव मंदिर, यहीं है 12वां ज्योतिर्लिंग
Sawai-Madhopur News in Hindi


Updated: February 24, 2017, 1:45 PM IST
महाशिवरात्रि 2017: आस्था का प्रतीक है घुश्मेश्वर महादेव मंदिर, यहीं है 12वां ज्योतिर्लिंग
शिवाड़ का देवगिरि पर्वत भी लोगों के बीच विशेष आकर्षण का केन्द्र है.

शिव पुराण के कोटिरूद्र संहिता के 32 वें श्लोक के अंतिम चरण में घुश्मेश्वर का स्थान शिवालय नामक स्थान होना बताया गया है.

  • Last Updated: February 24, 2017, 1:45 PM IST
  • Share this:
भारतभर में शुक्रवार को महाशिवरात्रि धूमधाम से मनाई जा रही है. राजस्थान के शिव मंदिरों में भी श्रद्धालुओं का तांता लगा है. लेकिन प्रदेश में एक शिव मंदिर ऐसा भी है जहां सालभर शिव की पूजा अर्चना को लंबी-लंबी कतारें लगी रहती हैं. यह मंदिर समाई माधोपुर जिले के शिवाड़ कस्बे में स्थित घुश्मेश्वर महादेव मंदिर है.

शिव पुराण के कोटिरूद्र संहिता के 32 वें श्लोक के अंतिम चरण में घुश्मेश्वर का स्थान शिवालय नामक स्थान होना बताया गया है. इसी शिवालय का नाम मध्यकाल में बिगड़कर शिवाल और शिवाल से वर्तमान में शिवाड़ हो गया. यह मंदिर सवाई माधोपुर जिले की चौथ का बरवाड़ा तहसील में शिवाड़ कस्बे में स्थित है, यह भारत के द्वादशों ज्योतिर्लिंग में अंतिम ज्योतिर्लिंग है, यह मंदिर शिवाड़ कस्बे में देवगिरी पर्वत पर बना हुआ है.
यह घुश्मेश्वर मंदिर पर महाशिवरात्रि पर पांच दिनों के विशेष मेले का आयोजन होता है. इस मेले में देश-दुनिया से आने वाले श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ पड़ता है. मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष प्रेम प्रकाश शर्मा बता ते हैं कि घुश्मेश्वर मंदिर का इतिहास अपने आप मे बेहद अद्भुत है. यह मंदिर नो सौ वर्ष पुराना बताया जाता है. मंदिर में स्थापित शिव लिंग स्वयं प्राकट्य बताया जाता है.





मंदिर सेवक शिव लहरी के अनुसार शिव लिंग के प्राकट्य के पीछे की कहानी बताते हैं कि घुश्मा की तपस्या से इस शिव प्रकट हुए थे. इस शिव लिंग को पाताल से जुड़ा हुआ माना जाता है. वेदों और उपनिषदों में भी शिवाड़ घुश्मेश्वर का बखान किया गया है.



बताया जाता है कि महर्षि वेदव्यास ने भी उपनिषद में इस मंदिर का वर्णन किया है. इस मंदिर मे देवगिरि पर्वत भी लोगों के लिए विशेष आकर्षण का केन्द्र है. पहाड़ पर स्थित देवगिरि पर्वत को मंदिर ट्रस्ट ने विकसित कर विशेष आकर्षण का केन्द्र बनाया है.


विभिन्न देवी देवताओं की बड़ी बड़ी प्रतिमाएं देवगिरि पर्वत पर स्थापित की हैं. मंदिर के प्रति लोगों की विशेष आस्थाएं जुड़ी हुई हैं. महा शिवरात्रि मेले के दौरान लाखो की तादाद में श्रद्धालु यहां पहुंचते हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सवाई माधोपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 24, 2017, 1:35 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर