राजस्‍थान में मदरसा बोर्ड ने बंद किए 732 मदरसे, सवाईमाधोपुर में 54 पर ताला
Sawai-Madhopur News in Hindi

राजस्‍थान में मदरसा बोर्ड ने बंद किए 732 मदरसे, सवाईमाधोपुर में 54 पर ताला
मदरसा बोर्ड की ओर से प्रदेश में मदरसों के संबंध में डाटा कैप्चर रिपोर्ट तैयार करवा ली गई है.

मदरसा बोर्ड की ओर से प्रदेश में मदरसों के संबंध में डाटा कैप्चर रिपोर्ट तैयार करवा ली गई है.

  • Share this:
मदरसा बोर्ड की ओर से प्रदेश में मदरसों के संबंध में डाटा कैप्चर रिपोर्ट तैयार करवा ली गई है.

इस रिपोर्ट  बोर्ड की ओर अल्पसंख्यक मामलात विभाग को दिए गए सुझावों में कम छात्र संख्या होने के कारण प्रदेश के 732 मदरसों पर गाज गिरी है. इनमं 54 सवाईमाधोपुर से है. रिपोर्ट को लेकर मदरसा शिक्षा सहयोगी संघ ने अभी से अपनी आवाज बुलंद कर दी है. उनका कहना है कि बोर्ड ने जो गाइड लाइन तय की थी उन्हें ताक में रख कर कार्रवाई की गई.

एक तो पहले ही अनुबंध रिन्यू नहीं होने से प्रदेशभर के मदरसा पैटीचर्स वेतन के मामले में काफी परेशान रहे. वहीं अब अब भौतिक सत्यापन के बाद में डाटा कैप्चर रिपोर्ट मदरसों और मदरसा पैरा टीचर्स की नींद उड़ा दी है. रिपोर्ट के मुताबिक सख्त एक्शन लेते हुए प्रदेशभर में 732 मदरसों का पंजीयन रद्द कर दिया गया है. अल्पसंख्यक मामलात विभाग को भेजी रिपोर्ट के बाद कार्यालय आदेश सभी मदरसों को भेज दिए गए हैं और एक लिस्ट मदरसा बोर्ड की वेबसाइट पर एक दिसम्‍बर की तारीख के आदेश के साथ में जारी भी कर दी गई है.



बोर्ड ने कहा है कि नामांकन नहीं होने या फंक्शनल नहीं होने के कारण के कारण 732 मदरसों के पंजीयन को निरस्त किया गया है और उनमें जो मदरसा शिक्षा सहयोगी अपनी सेवाएं दे रहे हैं उनका मानदेय भी तुरंत रोक दिया जाए. रिपोर्ट के मुताबिक 252 मदरसा पैरा टीचर्स को उनके अनुभव मानवीय आधार पर कहीं ओर स्थानान्तरित करने की बात कही गई है.
भौतिक सत्यापन के दौरान प्रदेशभर के चार हजार के करीब मदरसों में से 148 मदरसे तो मौके पर मिले ही नहीं थे. जबकि 507 मदरसे ऐसे थे जहां पर छात्रों की संख्या शून्य थी. 228 मदरसे ऐसे थे जहां छात्रों की संख्या 20 से कम थी. ऐसे में 655 मदरसों पर कार्रवाई की जानी थी लेकिन अब कार्रवाई 732 मदरसों पर की गई है. अब इन मदरसों से मदरसा पैरा टीचर्स तो हटाए ही जाएंगे साथ ही इन मदरसों को पोषाहार की सुविधा समेत मदरसा बोर्ड की ओर दी जा रहीं सभी तरह की मदद बंद कर दी जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज