Home /News /rajasthan /

नाबालिग लड़की के अपहरण और दुष्कर्म के दोषी को अदालत ने सुनाई 10 साल के कठोर कारावास की सजा

नाबालिग लड़की के अपहरण और दुष्कर्म के दोषी को अदालत ने सुनाई 10 साल के कठोर कारावास की सजा

नाबालिक के अपहरण और रेप का दोषी को कोर्ट ने सुनाई सजा

नाबालिक के अपहरण और रेप का दोषी को कोर्ट ने सुनाई सजा

सवाई माधोपुर में एक विशेष अदालत ने एक नाबालिग लड़की के अपहरण और दुष्कर्म के दोषी को 10 साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई है.

    सवाई माधोपुर. जिले की विशेष अदालत ने नाबालिग लड़की के अपहरण और उसके साथ दुष्कर्म (Kidnapping and rape) के मामले (Protection of Children from Sexual Offences Act) पॉक्सो एक्ट के तहत एक आरोपी को 10 साल कैद की सजा सुनाई है. जयपुर जिला के रामगढ़ थाने के दाथली निवासी आरोपी शाहिद वर्ष 2016 में 16 जून को सवाई माधोपुर की एक नाबालिक लड़की का अपहरण कर लिया था. अपहरण के बाद उसने उसके साथ दुष्कर्म किया था. इस घटना के बाद पीड़ित लड़की के परिजनों ने गंगापुर सिटी कोतवाली में आरोपी शाहिद के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था.

    गिरफ्तारी के बाद से अब तक जेल में ही है आरोपी 

    इस मामले में कोतवाली पुलिस ने कार्रवाई करते हुए आरोपी शाहिद को गिरफ्तार कर लिया था. तब से शाहिद अब तक न्यायिक अभिरक्षा में जेल में ही है. पुलिस ने अपनी रिपोर्ट पेश कर दी और न्यायालय ने उक्त मामले में आरोपी को दोषी करार देते हुए उसे 10 साल की कैद और 35 हजार रुपए का जुर्माने की सजा सुनाई है. विशिष्ट लोक अभियोजक अनिल जैन ने बताया कि शाहिद उर्फ मिट्ठू को न्यायालय ने
    आईपीसी की धारा 363 के तहत 3 साल की कैद और पांच हजार रुपए का आर्थिक दंड, अपहरण के लिए आईपीसी की धारा 366 के तहत 5 साल का कठोर कारावास और 10 हजार रुपए जुर्माना और  बलात्कार (आईपीसी की धारा 376) के तरह 10 साल का कठोर कारावास और 20 हजार रुपए के आर्थिक दंड से दंडित किया है.

    (रिपोर्ट- गिरिराज)

    ये भी पढ़ें- पिता से रुपए मांगकर लाने से किया इनकार तो पति ने चला दी तलवार

    सोना चुराने के लिए मंदिर का गुंबद तोड़ने लगे चोर, गिर गई पूरी छत

    Tags: Rape convict, Sawai madhopur news

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर