होम /न्यूज /राजस्थान /

भारत में नहीं है असहिष्णुता, यहीं जन्‍मा और यहीं मरूंगा: आमिर खान

भारत में नहीं है असहिष्णुता, यहीं जन्‍मा और यहीं मरूंगा: आमिर खान

पिछले साल नंवबर में असहिष्णुता पर बहस के दौरान देश छोड़ने की बात कहने वाले अभिनेता आमिर खान की अब सफाई आई है. आमिर खान ने सोमवार को कहा कि उनका मतलब यह कभी नहीं था कि वह देश छोड़ना चाहते हैं या भारत असहिष्णु है.

पिछले साल नंवबर में असहिष्णुता पर बहस के दौरान देश छोड़ने की बात कहने वाले अभिनेता आमिर खान की अब सफाई आई है. आमिर खान ने सोमवार को कहा कि उनका मतलब यह कभी नहीं था कि वह देश छोड़ना चाहते हैं या भारत असहिष्णु है.

पिछले साल नंवबर में असहिष्णुता पर बहस के दौरान देश छोड़ने की बात कहने वाले अभिनेता आमिर खान की अब सफाई आई है. आमिर खान ने सोमवार को कहा कि उनका मतलब यह कभी नहीं था कि वह देश छोड़ना चाहते हैं या भारत असहिष्णु है.

  • Agencies
  • Last Updated :
    पिछले साल नंवबर में असहिष्णुता पर बहस के दौरान देश छोड़ने की बात कहने वाले अभिनेता आमिर खान की अब सफाई आई है. आमिर खान ने सोमवार को कहा कि उनका मतलब यह कभी नहीं था कि वह देश छोड़ना चाहते हैं या भारत असहिष्णु है.

    आमिर ने कहा कि भारत की तरह कोई भी देश विविध नहीं है. उन्होंने कहा कि मैं यहां जन्मा और मैं यहीं मरूंगा.

    उन्होंने 2006 की अपनी सुपरहिट फिल्म ‘रंग दे बसंती’ के 10 साल पूरा होने की पूर्व संध्या पर कहा कि मैंने कभी नहीं कहा कि भारत असहिष्णु है या मैं देश छोड़ना चाहता हूं. मैं उन लोगों की भी भावनाओं को समझता हूं जो आहत हुए हैं. मैं कहना चाहूंगा कि मेरे बयान को गलत रूप में समझा गया और कुछ हद तक मीडिया भी इसके लिए जिम्मेदार है. मैंने यहां जन्म लिया और यहीं मरूंगा.

    आमिर ने कहा कि हमारा देश कई भाषाओं, संस्कृति के साथ विविधता भरा है, किसी अन्य देश में भारत जैसी विविधता नहीं है.

    उन्‍होंने कहा कि जब कभी मैं विदेश जाता हूं मैं दो हफ्ते से ज्यादा अपने देश से दूर नहीं रहता. पिछले साल नवंबर में आमिर का बयान कि वह कई घटनाओं से चौकन्ना हो गए हैं और यहां तक कि उनकी पत्नी किरन राव ने कहा था कि उन्हें शायद देश छोड़ देना चाहिए. उनकी इस टिप्पणी से राष्ट्रव्यव्यापी रोष छा गया था. हाल ही में उन्हें ‘अतुल्य भारत’ अभियान के ब्रांड अंबेसडर से हटा दिया गया.

    Tags: Aamir khan, Dangal, India, Intolerance, Kiran Rao

    अगली ख़बर