लाइव टीवी

राजस्थान के लाल का कमाल: अफ्रीका महाद्वीप के सबसे ऊंचे पर्वत किलिमंजारो पर फहराया तिरंगा
Sikar News in Hindi

Ashok sharma | News18 Rajasthan
Updated: January 28, 2020, 5:47 PM IST
राजस्थान के लाल का कमाल: अफ्रीका महाद्वीप के सबसे ऊंचे पर्वत किलिमंजारो पर फहराया तिरंगा
अनिल का लक्ष्य है दुनिया के सातों महाद्वीपों की सबसे ऊंची पर्वत चोटियों पर भारत का तिरंगा झंडा फहराना.

दो दिन पहले 26 जनवरी को एक तरफ जब पूरा देश 71वें गणतंत्र दिवस (Republic Day) की खुशियां मना रहा था वहीं दूसरी तरफ सीकर (Sikar) का एक युवा बेहद खराब मौसम (Bad weather) के बावजूद अफ्रीका महाद्वीप (Africa continent) की सबसे ऊंचे पर्वत किलिमंजारो (Kilimanjaro) पर तिरंगा फहराने के लिए चुनौतियों से जूझ (struggle) रहा था.

  • Share this:
सीकर. दो दिन पहले 26 जनवरी को एक तरफ जब पूरा देश 71वें गणतंत्र दिवस (Republic Day) की खुशियां मना रहा था वहीं दूसरी तरफ सीकर (Sikar) का एक युवा बेहद खराब मौसम (Bad weather) के बावजूद अफ्रीका महाद्वीप (Africa continent) की सबसे ऊंचे पर्वत किलिमंजारो (Kilimanjaro) पर तिरंगा फहराने के लिए चुनौतियों से जूझ (struggle) रहा था. तमाम विपरीत परिस्थितियों का सामना करते हुए आखिरकार इस युवा ने किलिमंजारो पर्वत पर तिरंगा झंडा फहराकर देशवासियों की खुशियों को दोगुना कर दिया.

जवाहर नवोदय विद्यालय पाटन के छात्र रहे हैं अनिल
यह युवा है सीकर जिले के नागवा गांव का निवासी अनिल कुमार रुलानियां. अनिल ने 26 जनवरी को अफ्रीका महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी और अफ्रीका की छत कहे जाने वाले किलिमंजारो पर्वत पर 19,341 फीट पर चढ़कर भारत का तिरंगा झंडा फहराया. अनिल रुलनिया जवाहर नवोदय विद्यालय पाटन के छात्र रहे हैं. उन्होंने जम्मू कश्मीर स्थित पहलगाम के जवाहर इंस्टीट्यूट ऑफ माउंटेनरिंग एंड विंटर स्पोर्ट्स से पर्वतारोहण का बेसिक कोर्स किया है.

अगला लक्ष्य भी किया तय

अफ्रीका से अनिल रुलनिया ने संदेश भेजकर बताया कि गणतंत्र दिवस के दिन अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी पर पहुंचकर अपने देश का तिरंगा लहराया तो वे पल उनकी जिंदगी के सबसे हसीन पल बन गए. रुलानियां ने कहा कि उनका लक्ष्य है दुनिया के सातों महाद्वीपों की सबसे ऊंची चोटियों पर भारत का तिरंगा झंडा फहराना. अब उनका अगला लक्ष्य अब यूरोप महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी 'माउंट एलब्रुस' पर चढ़ना है. अनिल की उपलब्धि पर ग्रामीणों में खुशी की लहर है। ग्रामीण अनिल के परिजनों को बधाइयां दे रहे हैं. परिजनों ने भी बेटे की इस उपलब्धि पर गर्व जताया है.

 

तीन दिन पहले ही जिले के खाते में जुड़ी थी यह बड़ी उपलब्धि 
उल्लेखनीय है कि गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर जिले के दांतारामगढ़ निवासी प्रगतिशील किसान सुंडाराम वर्मा के नाम पद्मश्री पुरस्कार के लिए ऐलान किया गया है। गत तीन दिनों में जिले के खाते में दो बड़ी उपलब्धियां आई हैं.

 

जान जोखिम में डाल इस 'तहसीलदार' ने जीत लिया दिल! ग्रामीण हुए मुरीद

 

अलवर: लादेन गैंग का सरगना विक्रम पुलिस गिरफ्त में, हैदराबाद से दबोचा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सीकर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 28, 2020, 5:39 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर