दिल्ली में हिंसा: राजस्थान के सीकर निवासी हैड कांस्टेबल रतन लाल की मौत

हिंसा में राजस्थान के सीकर निवासी हेड कांस्टेबल रतन लाल की मौत हो गई.

दिल्ली के जाफराबाद के मौजपुर में सीएए के विरोध और समर्थकों के बीच हुए पथराव के बाद सोमवार को हुई हिंसा में राजस्थान के सीकर निवासी हेड कांस्टेबल रतन लाल की मौत हो गई.

  • Share this:
    सीकर. दिल्ली के जाफराबाद के मौजपुर में सीएए के विरोध और समर्थकों के बीच हुए पथराव के बाद सोमवार को हुई हिंसा में राजस्थान के सीकर निवासी हैड कांस्टेबल रतन लाल समेत चार लोगों की मौत हो गई. सीकर जिले के तिहावली गांव के मूल निवासी और दिल्ली पुलिस में हैड कांस्टेबल रतन लाल के शहीद हो जाने की सूचना जब पैतृक गांव तिहावली में परिजनों तक पहुंची तो शोक की लहर छा गई. पूरे गांव में सन्नाटा छा गया. दर्जनों युवक रतन लाल के घर के पास एकत्र हो गए. परिजनों से पता चला कि दो दिन पहले ही रतन लाल ने मां से फोन पर बात की थी और होली पर गांव आने को कहा था.

    रतनलाल को शहीद का दर्जा और मुआवजे की मांग
    हंसमुख स्वभाव के रतन लाल की मां संतरा देवी और भाई दिनेश गांव में परिवार के साथ रहते हैं. उनका एक भाई बेंगलूरु में रहते हैं. उधर, ग्रामीणों ने मृतक हैड कांस्टेबल रतनलाल को शहीद का दर्जा देते हुए उचित मुआवजे की मांग की है. साथ ही गांव में रतन लाल के नाम से स्कूल में स्टेडियम का नामकरण किए जाने की भी मांग की.

    पत्नी पूनम, दो बेटियां और एक 9 साल का बेटा
    दिल्ली में रतन लाल एसीपी गोकुलपुरी ऑफिस में ऑपरेटर के रूप में तैनात थे. रतन लाल के मौत की खबर टीवी पर सुनते ही उनकी पत्नी पूनम बेहोश हो गईं. रतन लाल अपने पीछे परिवार में पत्नी पूनम, दो बेटी और एक 9 साल का बेटा छोड़ गए हैं. रतन लाल के तीनों बच्चे अभी पढ़ाई कर रहे हैं. परिवार के मुखिया की इस तरह मौत के बाद परिजनों पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है. वहीं हैड कांस्टेबल रतन लाल के परिजन और मित्र उनकी मौत की खबर सुनने के बाद दिल्ली रवाना हो गए हैं.

    ये भी पढ़ें- 

    SDM दिव्या चौधरी के सामने MP हनुमान बेनीवाल की ये हरकत हुई VIRAL

    नर्सिंग भर्ती के लिए बीकानेर,जोधपुर, कोटा,उदयपुर समेत प्रदेशभर में आंदोलन

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.