VIDEO: आफत में बच्चों की जान, सीकर में दोहराया दौसा जैसा डरावना मंजर

राज्य एक, जगह दो, एक जैसी आफत और एक जैसी तस्वीर. पानी में बस और आफत में स्कूली बच्चों की जान. एक तस्वीर 23 अगस्त 2018 दौसा की है. दूसरी तस्वीर 6 सितंबर 2018 सीकर की है

News18 Rajasthan
Updated: September 7, 2018, 2:37 PM IST
News18 Rajasthan
Updated: September 7, 2018, 2:37 PM IST
राज्य एक, जगह दो, एक जैसी आफत और एक जैसी तस्वीर. पानी में बस और आफत में स्कूली बच्चों की जान. एक तस्वीर 23 अगस्त 2018 दौसा की है. दूसरी तस्वीर 6 सितंबर 2018 सीकर की है. लग रहा है कि सीकर में दो सप्ताह के अंदर हुबहु दौसा जैसा मंजर दोहराया गया है. भयावह तस्वीरें देखकर हर कोई बच्चों के बचने की दुआ करता नजर आया.

सीकर पीले रंग की स्कूल बस के पहिए अंडरपास के दलदल में फंसकर जाम हो गए. ना बस आग बढ़ने लायक रही और ना ही पीछे मुड़ने का ही कोई रास्ता बचा. इस बस में करीब 70 से 80 बच्चे सवार थे. जैसे ही बस फंस दलदल फंसी, ड्राइवर से लेकर सभी बच्चों के दिल दहल गए. सभी बचाने के लिए गुहार लगाने लगे. बस को फंसा देखकर अंडरपास पर आसपास के गांव वालों की भीड़ जमा हो गई. फौरन सीढ़ी का इंतजाम किया गया. फिर एक-एक कर बच्चों को बाहर निकालने का सिलसिला शुरू हो गया. जब सभी बच्चे बस से सुरक्षित बाहर निकल आए तब जाकर मौके पर मौजूद लोगों की जान में जान आई.

इससे पहले दौसा के जगनेर गांव में ठीक ऐसा ही मंजर नजर आया था. वहां भी एक स्कूल बस बारिश के बाद अंडरपास में जमा पानी में फंस गई थी. इस बस में 22 बच्चे सवार थे. अचानक आई इस आफत से सभी सहम गए थे. देखने वाले पानी में बस को देखकर दहल उठे, लेकिन समय पर रेस्क्यू का सिलसिला शुरू हो गया. बस के ड्राइवर और स्थानीय लोगों ने हिम्मत दिखाई. सभी 22 बच्चों को पहले बस की छत पर चढ़ाया. फिर एक-एक कर बच्चों को कंधे पर बिठाकर इस आफत से बाहर निकाला. बला भयंकर जरूर थी, लेकिन समय पर मदद मिलने से मुसीबत टल गई.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर