Sriganganagar: IAS टीना डाबी के नाम से चलाई जा रही हैं 10 फर्जी फेसबुक आईडी, मामला दर्ज
Sri-Ganganagar News in Hindi

Sriganganagar: IAS टीना डाबी के नाम से चलाई जा रही हैं 10 फर्जी फेसबुक आईडी, मामला दर्ज
आईएएस डाबी इससे पहले भीलवाड़ा में एसडीएम रह चुकी हैं.

श्रीगंगानगर में जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (Chief Executive Officer) पद पर पदस्थापित आईएएस टीना डाबी (IAS Tina Dabi) के नाम से करीब 10 फर्जी फेसबुक आईडी (Fake facebook id) चलाई जा रही हैं.

  • Share this:
श्रीगंगानगर. संघ लोक सेवा आयोग परीक्षा- 2016 की टॉपर रही भारतीय प्रशासनिक सेवा की अधिकारी टीना डाबी (IAS Tina Dabi) के नाम से कई फर्जी फेसबुक आईडी (fake Facebook IDs) चलाई जा रही है. इसको लेकर डाबी ने श्रीगंगानगर (Shri Ganga Nagar) कोतवाली थाने में मामला दर्ज कराया है. डाबी ने उनके नाम से चलाई रही करीब 10 फर्जी फेसबुक आईडी चलाने वाले अज्ञात लोगों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है. डाबी वर्तमान में श्रीगंगानगर में जिला परिषद् के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (Chief Executive Officer) पद पर पदस्थापित हैं.

यहां कार्यभार ग्रहण करते ही चर्चा में आ गई थी डाबी
आईएएस टीना डाबी 22 जुलाई 2020 से जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी के पर कार्यरत हैं. टीना डाबी उस समय भी चर्चा में आई थी जब उन्होंने यहां ज्वॉनिंग के समय पूजा-पाठ और अनुष्ठान करवाया था. डाबी ने वैदिक मंत्रोचार के बीच में यहां अपना कार्यभार ग्रहण किया था. इस पर चली चर्चाओं के दौरान डाबी ने कहा था कि वे आस्तिक हैं और भगवान में उनकी पूरी आस्था है. कोई भी कार्य शुरू करने से पहले अपने ईष्ट देव और ईश्वर को स्मरण करना नहीं भूलती हैं.

Rajasthan: हाई कोर्ट की अवमानना मामले में फंसी गहलोत सरकार, बचने का ढूंढ रही ये उपाय
भीलवाड़ा में उपखंड अधिकारी रह चुकी हैं डाबी


टीना डाबी इससे पहले भीलवाड़ा में उपखंड अधिकारी के पद पर कार्यरत थीं. कोरोना काल की शुरुआत में जब भीलवाड़ा कोरोना संक्रमण को लेकर चर्चा में आया उस समय डाबी ने वहां अपने बेहतर प्रशासनिक क्षमता का परिचय देते हुए इसकी रोकथाम में अहम भूमिका निभाई थी. एसडीएम टीना डाबी ने सरकारी मशीनरी से बेहतर सामंजस्य करते कर महज 6 दिन के अंतराल में भीलवाड़ा से उत्तर प्रदेश के आगरा, झांसी और चित्रकूट के लिए एक विशेष ट्रेन की रवानगी करवाई थी. उन्होंने इस ट्रेन में उत्तर प्रदेश के इन तीनों जिलों के 80 किलोमीटर के क्षेत्र में रहने वाले 1400 श्रमिकों को उनके घर पहुंचाने का बेहतरीन इंतजाम किया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज