लाइव टीवी

COVID-19: लॉकडाउन के बीच शादी कर लौट रहा दूल्हा बना 'समाज का दुश्मन', पुलिस ने थमाया पर्चा
Sri-Ganganagar News in Hindi

News18 Rajasthan
Updated: March 25, 2020, 2:34 PM IST
COVID-19: लॉकडाउन के बीच शादी कर लौट रहा दूल्हा बना 'समाज का दुश्मन', पुलिस ने थमाया पर्चा
इस पर्चे पर लिखा था 'मैं समाज का दुश्मन हूं.

कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते पूरी दुनिया अलर्ट मोड पर है. पूरे देश को लॉकडाउन (Lockdown) किया हुआ है, फिर भी बहुत से लोग इसकी गंभीरता को समझने की कोशिश नहीं कर रहे हैं.

  • Share this:
श्रीगंगानगर. कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते पूरी दुनिया अलर्ट मोड पर है. सभी जगह एहतियात बरता जा रहा है. पूरे देश को लॉकडाउन (Lockdown) किया हुआ है, फिर भी बहुत से लोग इसकी गंभीरता को समझने की कोशिश नहीं कर रहे हैं. ऐसा ही एक मामला श्रीगंगानगर जिले में सामने आया है. यहां दूल्हा शादी के लिए बारात लेकर रवाना हो गया. शादी के बाद दुल्हन को लेकर आते समय बीच राह में पुलिस ने दूल्हे और उसके रिश्तेदारों को पकड़ लिया. बाद में उन्हें समझा-बुझाकर छोड़ा गया.

बारात में शामिल थे करीब 10-11 लोग

जानकारी के अनुसार मामला श्रीगंगानगर के लालगढ़ जाटान इलाके का है. वहां मंगलवार को हनुमानगढ़ जिले का दूल्हा बारात लेकर आया था. बारात में करीब 10-11 लोग शामिल थे. शादी के बाद दुल्हन को लेकर जाते समय बारात को रास्ते में पुलिस ने रोक लिया. पुलिस ने दूल्हे और बारातियों को गाड़ी से नीचे उतारकर उनसे पूछताछ की. दूल्हे और उसके परिजनों ने शादी के लिए एसडीएम से परमिशन लिए जाने की बात कही. लेकिन वे पुलिस को इसका कोई दस्तावेज नहीं दिखा पाए. इस पर पुलिस ने दूल्हे को एक पर्चा थमा दिया और उसका फोटो लिया. इस पर्चे पर लिखा था 'मैं समाज का दुश्मन हूं. किसी के कहने पर घर नहीं बैठूंगा. मैं खुद मरुंगा और सबको भी मारुंगा.' उसके बाद पुलिस ने उनको समझाकर घर भेज दिया गया.

जयपुर में युवक ने बंद कमरे में लिए थे सात फेरे



वहीं इससे विपरीत बीते 22 मार्च को 'जनता कर्फ्यू' के दौरान राजधानी जयपुर में एक युवक ने पीएम नरेन्द्र मोदी की अपील का अक्षरशः पालन करते हुए महज परिवार के 5 लोगों के बीच बंद कमरे में सात फेरे लिए थे. जयपुर के ब्रह्मपुरी का राजेश पिछले रविवार को बिना बारात के ही शादी करने निकला. दूल्हे ने कहा कि कोरोना वायरस फैलने से रोकने के लिए सामाजिक दूरी बनाने की जरूरत है. बारात ले जाने से सड़क पर भीड़ जमा होती. वहीं, दूल्हे के पिता और भाई ने बताया कि हिंदू मान्यताओं के अनुसार शादी की तारीख आगे नहीं बढ़ाई जा सकती थी. ऐसे में वधू पक्ष से बातचीत के बाद निर्धारित समय पर बंद कमरे में ही शादी करना तय किया गया.

ये भी पढ़ें -

Corona effect: 'जनता कर्फ्यू' के बीच बंद कमरे में मास्क लगाकर लिए सात फेरे

Lock down: CM ने की समीक्षा, कहा- पूरे दिन खुल सकती हैं आवश्यक सेवा की दुकानें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए श्रीगंगानगर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 25, 2020, 12:41 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर