Shriganganagar : मासूम को सिगरेट-बीड़ी से दागता रहा मां का प्रेमी, ममता ने साधी चुप्पी
Sri-Ganganagar News in Hindi

Shriganganagar : मासूम को सिगरेट-बीड़ी से दागता रहा मां का प्रेमी, ममता ने साधी चुप्पी
सौतेला पिता 10 वर्षीय बच्चे से घर और खेतों पर भी काम करवाता था. (सांकेतिक तस्वीर)

सबसे दुखद बात यह रही कि प्रेमी युवक के अत्याचार में उस बच्चे की मां ने भी मौन स्वीकृति दे दी थी, जिस वजह से बच्चा इतना ज्यादा खौफ में रहा कि अपने ऊपर हो रहे इस निर्मम अत्याचार का विरोध तक नहीं कर पाया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 3, 2020, 8:41 PM IST
  • Share this:
श्रीगंगानगर. श्रीगंगानगर (Shriganganagar) जिले में एक मां का अपने प्रेमी के साथ चले जाना उसके बच्चों के लिए जहन्नुम (Hell) साबित हुआ. अपने प्रेमी के साथ रह रही मां के 10 वर्षीय बच्चे (Minor) से प्रेमी ने न केवल घर और खेत का काम कराया, बल्कि मासूम बच्चा जितनी रोटी खाता उतनी बार उसके शरीर पर सिगरेट से घाव करता. सबसे दुखद बात यह रही कि प्रेमी युवक के अत्याचार में उस बच्चे की मां ने भी मौन स्वीकृति दे दी थी, जिस वजह से बच्चा इतना ज्यादा खौफ में रहा कि अपने ऊपर हो रहे इस निर्मम अत्याचार का विरोध तक नहीं कर पाया.

हिम्मत करके एक रोज भाग निकला मासूम

आखिरकार वह मासूम किसी तरह हिम्मत कर एक रोज भाग निकला. भागने के बाद उसे अपने मां के प्रेमी के अत्याचार से छुटकारा मिला. भागकर वह श्रीगंगानगर में रह रहे अपने दादा-दादी के पास पहुंचा. वहां आकर उसने अपने पर हो रहे जुल्म की कहानी अपने दादा-दादी को सुनाई. इसके बाद इस अत्याचार के बारे में चाइल्ड हेल्पलाइन (Child Helpline) को बताया गया. चाइल्ड हेल्पलाइन और बाल कल्याण समिति (Child Welfare Committee) ने सूचना पर बच्चे को अपने सरंक्षण में लिया. अब मां के प्रेमी के खिलाफ बाल कल्याण समिति द्वारा मुकदमा दर्ज करवाया जा रहा है.



7 साल की बहन पर भी करता है जुल्म
बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष एडवोकेट लक्ष्मीकांत सैनी ने बताया कि मासूम बच्चे की मां अपने पति का घर छोड़कर पिछले दो-तीन साल से अपने प्रेमी बलजीत (20) के साथ उसके घर पर रह रही है. उसके साथ उसके तीन बच्चे भी रह रहे हैं. मासूम ने बताया कि मां के प्रेमी युवक के द्वारा उससे काम करवाया जाता था और उसके शरीर पर बीड़ी और सिगरेट से जला कर घाव किए जाते थे. यही नहीं, उसकी 7 वर्षीय छोटी बहन से भी घर का काम करवाया जाता है.

बाल कल्याण समिति सबको ले रही अपने संरक्षण में

बाल कल्याण समिति अब उसके दोनों छोटे भाई-बहनों को भी अपने संरक्षण में लेने की प्रक्रिया में जुटी हुई है. इधर 10 वर्षीय मासूम ने अपनी मां के साथ जाने से इनकार कर दिया और अपने दादा दादी के साथ रहने की बात कही है. वही सबसे खास बात यह रही कि जब बाल कल्याण समिति ने उसके सगे पिता, दादा दादी और अन्य रिश्तेदारों को बुलाया तो सभी ने अपनी दिहाड़ी मजदूरी खराब होने का हवाला देते हुए आने से इनकार कर दिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज