Assembly Banner 2021

राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के सदस्य सुभाष पारधी कल करेंगे कोटा दौरा, दलितों पर बढ़ते अत्याचार पर अधिकारियों से होगी बात

कोटो में एक अनुसूचित जाति की नाबालिग बच्ची से पेर के मामले में पारधी कल कोटा का दौरा करेंगे.

कोटो में एक अनुसूचित जाति की नाबालिग बच्ची से पेर के मामले में पारधी कल कोटा का दौरा करेंगे.

राजस्थान (Rajasthan) में अनुसूचित जाति के बुजुर्गों और महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अत्याचार को देखते हुए राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के सदस्य सुभाष पारधी कल कोटा का दौरा करेंगे. यहां अधिकारियों से दलितों के ऊपर बढ़ रहे अत्याचार के बारे में बात करेंगे.

  • Share this:
जयपुर. राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के वरिष्ठ सदस्य सुभाष पारधी कल यानी की नौ अप्रैल को कोटा (Kota) का दौरा करेंगें. कोटा में एक लड़की के साथ हुई रेप (Rape) की घटना को संज्ञान में लेते हुए सुभाष पारधी यह दौरा कर रहे हैं. पारधी शुक्रवार को सुबह कोटा पहुचने के बाद सबसे पहले पीड़ित लड़की और उसके परिजनों से मुलाकात करेंगे उसके बाद कोटा में बैठक करेंगे.

पारधी कोटा में कमिश्नर, कलेक्टर, आईजी और एसपी के साथ बैठक करेंगे और इस तरह की घटनाएं क्यों हो रही हैं इस पर बात करेंगे. न्यूज 18 से खास बातचीत में सुभाष पारधी ने कहा कि आज रात 10:00 बजे की ट्रेन से कोटा के लिए रवाना हो जाऊंगा. सुबह कोटा पहुचकर घटना की जानकारी लूंगा. सुभाष पारधी ने कहा कि राजस्थान में अनुसूचित जाति के लोगों के साथ लगातार घटनाएं बढ़ रही हैं. उन्होंने कहा कि यह राजस्थान का मेरा तीसरा दौरा है.

इसके पहले मार्च में मैंने दो दौरे किये थे. मेरा पहला दौरा पाली जिले में हुआ था, जहां पर एक गर्भवती महिला को गांव के दबंगों ने पीटा था, दूसरा दौरा मेरा जोधपुर में हुआ था, जहां पर एक नाबालिक बच्ची के साथ रेप किया गया था और अब तीसरा दौरा कोटा का रहेगा. राजस्थान में अनुसूचित जाति की महिलाओं के साथ लगातार घटनाएं बढ़ रही हैं.



राजस्थान विधानसभा उपचुनाव: गहलोत के इन बड़े निर्णयों से है कांग्रेस को अपने 'कल्याण' की उम्मीद
राजस्थान में महिलाओं के खिलाफ अपराध में नंबर वन हैं. मैं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से निवेदन करूंगा कि इस तरह की घटनाओं में वह तत्काल एक्शन लें. अनुसूचित जाति के लोगों को भरोसा दिलाएं कि सरकार उनके साथ है. फिलहाल अभी राजस्थान के लोगों में यह भरोसा दिख नहीं रहा है.

पारधी ने कहा कि देखा जाए तो राजस्थान में दलित महिलाओं और नाबालिग बच्चों के साथ हो रही रेप की घटना और अत्याचार हो रहे हैं. राजस्थान बीजेपी के एक डेलिगेशन ने 5 अप्रैल को अनुसूचित जाति आयोग के चेयरपर्सन विजय सापला को ज्ञापन दिया था. बीजेपी की राष्ट्रीय सचिव अलका गुर्जर के नेतृत्व में बीजेपी के इस डेलिगेशन ने विजय सापला से निवेदन किया था कि राजस्थान में दलित महिलाएं और बच्चियां सुरक्षित नहीं हैं. उनके साथ हो रही आपराधिक घटनाओं को रोकने में राज्य सरकार फेल है. बीजेपी डेलिगेशन की शिकायत पर विजय सापला ने एक्शन लेते हुए सुभाष पारधी को नौ अप्रैल को राजस्थान के कोटा भेजने का निर्णय लिया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज