होम /न्यूज /राजस्थान /Tourist Spot : सुरम्य वादियों और चम्बल नदी के किनारे स्थित यह शिव मंदिर, पर्यटकों के लिए है बेस्ट डेस्टीनेशन

Tourist Spot : सुरम्य वादियों और चम्बल नदी के किनारे स्थित यह शिव मंदिर, पर्यटकों के लिए है बेस्ट डेस्टीनेशन

यहां वैसे रोड के जरिए भी आया जा सकता है. लेकिन, अगर चंबल के खूबसूरत किनारों, चट्टानों का मनमोहक दृश्य देखना हो तो बोट स ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट-शक्तिसिंह

कोटा. कोचिंग सिटी के नाम से विख्यात कोटा शहर व इसके आस-पास कई खूबसूरत पर्यटन स्थल भी मौजूद हैं. ऐसा ही एक स्थान है शहर कोटा से 25 किलोमीटर दूर कोटा-उदयपुर हाईवे के मध्य स्थित है गराडिया महादेव मंदिर. यहां की खूबसूरत ऊंची चट्टानें, बलखाती बहती चंबल नदी, सुरमई वादियों के आकर्षक प्राकृतिक दृश्य देखकर हर कोई रोमांचित हो जाता है. यहां स्थित गराडिया महादेव मंदिर भी काफी प्राचीन है. वहीं चंद्राकार चंबल नदी के मनोहारी नजारे, वन्यजीवों की अठखेलियां और चट्टानों से गिरता झरना देखना काफी अद्भुत एहसास कराता है.

लैंडस्केप देखकर हो जाएंगे ​मोहित

चंबल नदी के किनारे स्थित गराड़िया महादेव शिव मंदिर विशाल घाटियों से घिरा हुआ है. यहां सैकड़ों की तादाद में पर्यटक और श्रद्धालु भी आते हैं. जो शिव मंदिर का दर्शन कर प्राकृतिक लैंड स्केप के सम्मोहन में खो जाते हैं. चंबल नदी के इन लैंडस्केप को राष्ट्रीय स्तर पर प्रदेश भर के पर्यटन स्थलों में से टूरिज्म का बेस्ट अवार्ड आइकॉनिक लैंडस्केप डेस्टिनेशन श्रेणी का भी पुरस्कार मिला हुआ है. यह क्षेत्र फोटोग्राफी का बेहतरीन डेस्टिनेशन माना जाता है.

वन्यजीवों का भी होता है दीदार

गरड़िया महादेव मंदिर के जंगलों में वन्यजीवों की भी भरमार है. यहां के जंगलों में भालू तेंदुए, नीलगाय, बंदर सहित अन्य जीव हैं. यहां तेदुओं की संख्या काफी ज्यादा है. वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफरों का यहां हर समय जमावड़ा रहता है. इसके अलावा यहां सनसेट का दृश्य भी काफी सुंदर होता है.

बोट के जरिए भी यहां आ सकते हैं

यहां वैसे रोड के जरिए भी आया जा सकता है. लेकिन, अगर चंबल के खूबसूरत किनारों, चट्टानों का मनमोहक दृश्य देखना हो तो बोट से आना ज्यादा अच्छा रहता है. यहां कोटा शहर चंबल नदी के रास्ते से बोट आती हैं. गडरिया महादेव क्षेत्र फॉरेस्ट विभाग के अंडर में आता है. यहां घूमने आए आदित्य द्विवेदी बताया कि यहां का व्यू काफी अच्छा है. यह जगह शहर की भीड़-भाड़ से दूर और एकांत में हैं. यहां नेचर को महसूस किया जा सकता है.

रोड से इस तरह आ सकते हैं
अगर आप भी यहां घूमना चाहते हैं तो कोटा से अपने पर्सनल व्हीकल से ही आना पड़ेगा. क्योंकि, यहां तक आने के लिए कोई सार्वजनिक यातायात साधन उपलब्ध नहीं है. फॉरेस्ट एरिया में प्रवेश के लिए टिकट शुल्क लिया जाता है. एक टिकट की दर 126 रुपए है. सुबह 6ः00 बजे से शाम 7ः00 बजे तक यहां सैलानी आ जा सकते हैं.

Tags: Kota news, Rajasthan news

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें