• Home
  • »
  • News
  • »
  • rajasthan
  • »
  • उत्तर प्रदेश के सैफई का डॉक्टर निकला खून का तस्कर, जयपुर में रक्तदान शिविरों से जुटाता था 'ब्लड'

उत्तर प्रदेश के सैफई का डॉक्टर निकला खून का तस्कर, जयपुर में रक्तदान शिविरों से जुटाता था 'ब्लड'

यूपी एसटीएफ अब राजस्थान पुलिस काे खबरदार कर रही है कि राजस्थान में खून के सौदागर सक्रिय हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

यूपी एसटीएफ अब राजस्थान पुलिस काे खबरदार कर रही है कि राजस्थान में खून के सौदागर सक्रिय हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

Smuggler of Blood : रक्तदान शिविरों में लोग इसलिए बढ़-चढ़कर हिस्सा लेते हैं, ताकि समय पर उनका खून मरीजों-घायलों के काम आ सके. मौत के जूझते ऐसे मरीजों को उनके खून से नया जीवन मिले सके. लेकिन खून के तस्करों के लिए मानवता की इन भावनाओं का कोई मोल नहीं है. ये नशेड़ियों के मिलावटी खून को भी महंगे दामों में उत्तर प्रदेश और बिहार में बेचते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    जयपुर. यह खबर रक्तदान करने वाले लोगों को ज्यादा चौंका सकती है. उत्तर प्रदेश पुलिस ने खून के सौदागर एक डॉक्टर सहित 2 लोगों को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने इसके साथ ही ऐसे गिरोह का खुलासा किया है, जो जयपुर में रक्तदान शिविर लगाता, रक्त जुटाता और उत्तर प्रदेश ले जाकर गिरोह के जरिए 6000 रुपए प्रति यूनिट के हिसाब से बेचकर अपनी जेबें भरता. आरोपी डाक्टर सैफई मेडिकल कालेज में असिस्टेंट प्रोफेसर है

    उत्तर प्रदेश पुलिस ने आराेपी डाॅक्टर के माेबाइल से डिटेल निकलवाई ताे पता चला कि उसका अक्सर जयपुर व मेवात में आना-जाना रहता था. डाॅक्टर के पास से 21 ब्लड बैंकाें के कागजात मिले हैं, जिनसे वह खून लाता था. जांच में पता चला कि ये दस्तावेज फर्जी हैं. इनकी आड़ में वह खून की तस्करी कर रहा था.

    डॉक्टर की कार में मिला 100 यूनिट ब्लड
    खून के सौदागरों का खुलासा दो दिन पहले हुआ. जब यूपी की एसटीएफ ने नाकाबंदी के दौरान डाॅक्टर की कार की तलाशी ली. कार में 100 यूनिट ब्लड मिला. पूछताछ में पता चला कि मामला खून की तस्करी का है. यूपी एसटीएफ अब राजस्थान पुलिस काे खबरदार कर रही है कि राजस्थान में खून के सौदागर सक्रिय हैं. वे कैंप लगाकर खून एकत्र करते हैं, फिर 1200 रुपए यूनिट के हिसाब से लखनऊ के गिराेह काे बेचते हैं.

    Porn Video Case: DSP हीरालाल सैनी होगा बर्खास्त, CM अशोक गहलोत ने दी मंजूरी

    1200 का ब्लड छह हजार रुपये में बेचते
    आराेपी डाॅक्टर अभय प्रताप सिंह उत्तरप्रदेश के सैफई मेडिकल कालेज में असिस्टेंट प्रोफेसर है. दूसरे आरोपी अभिषेक पाठक काे एसटीएफ ने डाॅक्टर के फ्लैट से पकड़ा है. इनसे 100 यूनिट पैक रेड ब्लड सेल्स मिलीं. पूछताछ में इन्होंने बताया कि डोनेट किया हुआ ब्लड 1200 रुपए में खरीदकर 4000 से 6000 हजार रुपए में बेचते थे. डिमांड ज्यादा हो तो एक यूनिट से 2 यूनिट खून तैयार कर ऊंचे दामों में बेचते थे.

    राजस्थान, पंजाब, हरियाणा में सक्रिय हैं तस्कर
    पुलिस के मुताबिक डॉ. अभय और अभिषेक पाठक कई साल से खून की तस्करी कर रहे थे. दोनों ने बताया वे राजस्थान, हरियाणा, पंजाब आदि राज्यों से तस्करों के जरिए डोनेट खून जुटाते और यूपी-बिहार में बेचते थे. क्योंकि इन दोनों राज्यों में लोग रक्तदान कम करते हैं और खून की डिमांड रहती है. तस्करी में ब्लड को वैध रूप देने के लिए फर्जी रक्तदान शिविर के दस्तावेज बना लेते थे. राजस्थान में जयपुर और मेवात इलाके में गिराेह के लाेग सक्रिय हैं जाे लाेगाें से ब्लड डाेनेट करवाते और गिरेाह काे बेचते आए हैं.

    तस्कर नशेड़ियों से भी कराते थे ब्लड डोनेट
    एसटीएफ टीम ने उसके घर की तलाशी ली तो फ्रिज में 55 पैकेट ब्लड और मिला. एसटीएफ ने फ्लैट में मौजूद उसके साथी अभिषेक पाठक को भी गिरफ्तार कर लिया. यूपी एसटीएफ के डीएसपी अमित नागर के मुताबिक आरोपी नशा करने वाले लाेगाें से भी ब्लड डाेनेट करवा कर बिना जांच किए गिराेह काे बेच देते थे. राजस्थान, पंजाब व हरियाणा में ऐसे गिराेह अब रडार पर हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज