जोधपुर में मानव तस्करी का खेल, पुलिस ने गिरोह का खुलासा कर आठ को पकड़ा

जोधपुर शहर में मानव तस्करी का धंधा धड़ल्ले से जारी है. एक संगठित गिरोह बंगाल से लड़कियों को खरीदकर जोधपुर लाता है. उसके बाद यहां उनकी शादी करवाई जाती है.

Lalit Singh | News18 Rajasthan
Updated: August 12, 2018, 5:22 PM IST
जोधपुर में मानव तस्करी का खेल, पुलिस ने गिरोह का खुलासा कर आठ को पकड़ा
फोटो: न्यूज18 राजस्थान
Lalit Singh | News18 Rajasthan
Updated: August 12, 2018, 5:22 PM IST
जोधपुर शहर में मानव तस्करी का धंधा धड़ल्ले से जारी है. एक संगठित गिरोह बंगाल से लड़कियों को खरीदकर जोधपुर लाता है. उसके बाद यहां उनकी शादी करवाई जाती है. जोधपुर पुलिस ने ऐसे की एक गिरोह का खुलासा करते हुए दलालों समेत आठ लोगों को गिरफ्तार किया है.

पकड़े गए दलाल प्रदेश के बाहर से खासकर बंगाल से लड़कियां खरीदकर लाते हैं और इनकी यहां शादियां करवाते हैं. इसके लिए ये लड़के के पक्ष से पैसे लेते हैं. उसमें से अपना कमीशन काटकर लड़की के पक्ष को देते हैं. ऐसे एक दो नहीं, बल्कि सात मामले तो केवल एक टैक्सी ड्राइवर ने ही कबूले हैं.

यह है मामला
बंगाल निवासी एक नाबालिग अपने माता-पिता, नाबालिग भाई और महिला दलाल बसंती टंडन, उसके बेटे विनोद टंडन, बसंती के भाई राकेश साहू के साथ जोधपुर स्थित सरदारपुरा बी रोड आई. यहां पर नाबालिग की शादी जोधपुर के पवन प्रजापत से होनी थी. पवन ने महिला एजेंट व उसके परिवार और नाबालिग के परिवारजनों को अपने घर में छुपा कर रख लिया. नाबालिग की पवन के साथ 13 अगस्त को शादी होनी थी. इसकी सूचना मुखबिर के जरिये पुलिस तक पहुंच गई. इस पर पुलिस ने शनिवार को पवन के घर पर छापा मारकर सभी को गिरफ्तार कर लिया. पलिस ने दोनों नाबालिग भाई-बहन को बाल सुधार गृह भेज दिया है.

दलाल करवा चुका सात शादियां
सरदारपुरा थानाधिकारी कैलाश पारीक ने बताया कि चौहाबो 14 सेक्टर निवासी दलाल चंद्रसिंह पेशे से टैक्सी चालक है. उसने बसंती टंडन के साथ मिलकर इसी तरह से जोधपुर में अब तक सात शादियां करवा दी. उसे बदले में 20-30 हजार रुपए कमीशन के मिलता है. इस मामले में भी उसे और उसके साथी को बीस हजार रुपए मिलने थे. एक लाख रुपए की राशि नाबालिग के माता-पिता को मिलने वाली थी.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर