Home /News /rajasthan /

कभी पर्यटकों से गुलजार रहता था यह होटल, पर आज है जर्जर

कभी पर्यटकों से गुलजार रहता था यह होटल, पर आज है जर्जर

वीरान पड़ा होटल.

वीरान पड़ा होटल.

प्रशासनिक उदासीनता और बेरुखी किस कदर सरकारी इमारतों पर भारी पड़ती है इसका उदाहरण बाड़मेर में देखने को मिलता है. एक जमाने मे पर्यटकों के ठहरने के लिए सबसे पसंदीदा जगहों में से एक आरटीडीसी का खड़ताल होटल आज जर्जर हालात में है.

प्रशासनिक उदासीनता और बेरुखी किस कदर सरकारी इमारतों पर भारी पड़ती है इसका उदाहरण बाड़मेर में देखने को मिलता है. एक जमाने मे पर्यटकों के ठहरने के लिए सबसे पसंदीदा जगहों में से एक आरटीडीसी का खड़ताल होटल आज जर्जर हालात में है.

कभी यहां पर्यटकों की चहल पहल हुआ करती थी. वे लोक संस्कृति से रूबरू होते थे. शाम स्वरलहरियों से आबाद थी लेकिन आज सब कुछ बदल गया है.

यह है बाड़मेर जिला मुख्यालय स्थित होटल खड़ताल. आरटीडीसी के इस होटल ने बरसों तक अपनी शानदार इमारत के साथ पर्यटकों का दिल से स्वागत किया, लेकिन प्रशासनिक बेरुखी और अनदेखी ने इसे मुख्यधारा से दरकिनार कर दिया.

नतीजा यह हुआ कि आज इस ईमारत की सभी कीमती सामान समाज कंटकों की भेंट चढ़ चुका है. जानकार बताते हैं कि सरकार और प्रशासन ने इस तरफ ध्यान दिया होता तो आज यह खंडहर में तब्दील नहीं होता.

बाड़मेर के जिला कलेक्टर सुधीर कुमार शर्मा का कहना है कि पर्यटन विकास निगम की यह नाकामी है. अगर उन्होंने ईमानदारी से प्रयास किया होता तो खड़ताल की यह हालत नहीं होती.

बबूल की झाड़ियां यहां अपना साम्राज्य यहां फैला चुकी है. वहीं रात के अंधेरे में सजने वाले मयखानों की कहानी यहां बिखरी शराब की बोतलें बयां करती नजर आती है.

Tags: बाड़मेर

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर