• Home
  • »
  • News
  • »
  • rajasthan
  • »
  • हर माह 40 लाख वसूली कराने वाले थानेदार को तलाश रहा एसीबी, कांस्टेबल गिरफ्तार

हर माह 40 लाख वसूली कराने वाले थानेदार को तलाश रहा एसीबी, कांस्टेबल गिरफ्तार

प्रतीकात्मक तस्वीर

प्रतीकात्मक तस्वीर

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) की टीम हर माह 40 लाख वसूली कराने वाले पीपलू थाने के थानेदार विजेंदर गिल को तलाश रही है. अवैध बजरी को ढोने वाले वाहनों से एक रात की वसूली गई 1 लाख 46 हजार 500 रुपए की रकम के कांस्टेबल गिरफ्तार कैलाश जाट को एसीबी ने गिरफ्तार कर लिया है.

  • Share this:
    सुप्रीम कोर्ट की रोक के बावजूद प्रदेश में बजरी खनन जारी है और पुलिसकर्मियों की लाखों की कमाई हो रही है. भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) ने इसका खुलासा गुरुवार को एक कांस्टेबल को रिश्वत की रकम के साथ गिरफ्तार करके किया. यह भी पता चला है कि पीपलू थाने के पुलिसकर्मियों की हर माह सिर्फ बजरी से अवैध कमाई 40 लाख रुपए होती है और इस पैसे में से ऊपर तक बंटवारा होता है. अब एसीबी उस थानेदार विजेंदर गिल को तलाश रही है और थानेदार फरार है.

    एसीबी ने नानेर गांव चौराहे पर गुरुवार रात की छापेमारी करके एक कांस्टेबल को रिश्वत की रकम के साथ रंगे हाथ पकड़ा गया.एसीबी एएसपी विजय सिंह के अनुसार, थानेदार विजेंदर गिल के खिलाफ लगातार शिकायतें मिल रही थी. कहा जा रहा था कि बनास नदी से अवैध रूप से बजरी परिवहन का धंधा पुलिस की मिलीभगत से चल रहा है. इस धंधे को एसएचओ विजेंद्र गिल का करीबी कांस्टेबल कैलाश जाट संचालित कर रहा था.

    एसीबी ने की एक टीम गुरुवार रात 11 बजे के करीब नानेर गांव के चौराहे पहुंची. वहां कांस्टेबल कैलाश जाट बनास नदी से बजरी भरकर गुजरने वाले ट्रकों से वसूली कर रहा था. एसीबी ने उसे वसूली गई 1.46 लाख 500 रुपए के साथ रंगे हाथ पकड़ लिया. उसने एसीबी को बताया कि हर रोज वसूली गई रकम का पूरा हिसाब वह थाना प्रभारी विजेंद्र गिल को देता है. उसके पास से एसीबी ने चार मोबाइल फोन और चार सिम भी बरामद किए. सबकी कॉल डिटेल निकलवाई गई है.

    थानेदार गिल की संलिप्तता की जांच के लिए एसीबी ने कांस्टेबल कैलाश जाट से एसएचओ को फोन कराया. कैलाश जाट ने गिल को फोन करने को कहा कि बजरी वाहनों से 1 लाख 46 हजार 500 रुपए की वसूली हुई है. इसे देने के लिए मैं कहां आ जाऊं? गिल ने इसके जवाब में कहा कि मैं क्वार्टर पर हूं जल्दी देकर वापस चले जाना. एसीबी की टीम जब तक थानेदार गिल तक पहुंचती उसके पहले किसी ने उसे सूचना दे दी और वह मौके से फरार हो गया. अब एसीबी उसकी तलाश कर रही है.

    कैलाश के अनुसार हर महीने करीब 40 लाख रुपए की वह वसूली करता है. घूस की यह रकम बड़े अधिकारियों से लेकर छोटे कर्मचारियों तक जाती है. जानकारी के मुताबिक कांस्टेबल कैलाश चौधरी मार्च 2018 से पीपलू थाने में नियुक्त है. विजेन्द्र गिल की इसी साल 20 फरवरी को पीपलू के थानाधिकारी पद पर नियुक्ति हुई है. कैलाश का कहना है कि प्रतिदिन जिले से करीब 500 ट्रैक्टर-ट्रॉली, 100 डंपर, 200 ट्रक और 50 ट्राले बजरी अवैध रूप से निकल रहे हैं. ये बजरी जयपुर, बूंदी, भीलवाड़ा, सवाई माधोपुर, अजमेर पहुंचाई जाती है.

    ये भी पढ़ें-
    अवैध बजरी का परिवहन करने वाले 17 आरोपी हुए गिरफ्तार, हुई कोर्ट में पेशी

    अवैध बजरी से भरे 41 भारी वाहन जब्त

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज