• Home
  • »
  • News
  • »
  • rajasthan
  • »
  • टोंक: रेपिस्ट को अंतिम सांस तक जेल में रखने की सजा, 4 साल की मासूम से किया था रेप

टोंक: रेपिस्ट को अंतिम सांस तक जेल में रखने की सजा, 4 साल की मासूम से किया था रेप

रेपिस्ट मासूम बालिका को जलेबी का लालच देकर पास ही स्थित एक धर्मशाला में ले गया था. वहां उसने मासूम से रेप किया था.

रेपिस्ट मासूम बालिका को जलेबी का लालच देकर पास ही स्थित एक धर्मशाला में ले गया था. वहां उसने मासूम से रेप किया था.

टोंक (Tonk) शहर में करीब 11 महीने पहले 4 वर्षीय मासूम लड़की (Innocent girl) के साथ हुई दरिंदगी के मामले में पोक्सो कोर्ट (POCSO court) के विशिष्ट न्यायाधीश मान सिंह चूंडावत ने रेपिस्ट (Rapist) को जीवन की अंतिम सांस तक (Till the last breath) जेल में रखे जाने की कड़ी कैद की सजा सुनाई है.

  • Share this:
टोंक. शहर में करीब 11 महीने पहले 4 वर्षीय मासूम लड़की (Innocent girl)  के साथ हुई दरिंदगी के मामले में पोक्सो कोर्ट (POCSO court) के विशिष्ट न्यायाधीश मान सिंह चूंडावत ने रेपिस्ट (Rapist) को जीवन की अंतिम सांस तक (Till the last breath) जेल में रखे जाने की कड़ी कैद की सजा सुनाई है. कोर्ट ने इसे जघन्यतम अपराध (Heinous crime) करार देते हुए रेपिस्ट पर 1.30 लाख रुपए का जुर्माना (Penalty) भी लगाया है.

जलेबी का लालच देकर ले गया था मासूम को
पोक्सो कोर्ट के विशिष्ट लोक अभियोजक मोहम्मद मियां गुलज़ार ने बताया कि वारदात करीब 11 महीने पहले पुराने टोंक इलाके में हुई थी. इसी वर्ष 19 जनवरी, 2019 को पीड़िता मासूम अपने घर के बाहर खेल रही थी. उसी दौरान उसके पड़ोस में रहने वाला आरोपी अनिल सैनी मासूम बालिका को जलेबी का लालच देकर उसे पास ही स्थित एक धर्मशाला में ले गया था. अनिल ने वहां मासूम से रेप किया. बाद में मासूम को लहूलुहान हालत में उसके घर के बाहर छोड़ फरार हो गया था.

सुनवाई के दौरान कोर्ट में 20 गवाह पेश किए गए
इस संबंध में मामला दर्ज होने के बाद पुलिस ने आरोपी अनिल सैनी को गिरफ्तार कर लिया. जांच-पड़ताल के बाद पुलिस ने उसके खिलाफ पोक्सो कोर्ट में चालान पेश किया. सुनवाई के दौरान कोर्ट में पीड़ित पक्ष की ओर से 20 गवाह पेश किए गए. सुनवाई के बाद उपलब्ध साक्ष्यों और गवाहों के बयान के आधार पर कोर्ट ने आरोपी अनिल को रेप का दोषी करार दिया. पोक्सो कोर्ट के न्यायाधीश मान सिंह चूंडावत ने इसे जघन्यतम अपराध करार देते हुए सोमवार को रेपिस्ट अनिल सैनी को विभिन्न धाराओं में मरते दम तक जेल में रखे जाने की कड़ी सजा सुनाई.

तीन दिन पूर्व दूदू में रेपिस्ट को दिया गया था मृत्यु दंड
उल्लेखनीय है कि तीन दिन पूर्व शनिवार को जयपुर जिले में दूदू की अपर सेशन कोर्ट ने भी करीब आठ साल पहले 6 वर्षीय मासूम की रेप के बाद निर्दयतापूर्वक की गई हत्या के मामले में रेपिस्ट महेंद्र उर्फ धर्मेंद्र बैरवा को फांसी की सजा सुनाई थी. फागी थाना इलाके में हुए मासूम से रेप और हत्या के इस मामले में कोर्ट ने रेपिस्ट पर 8.20 लाख रुपए का जुर्माना लगाया था. कोर्ट ने इस केस को दुर्लभतम मानते हुए अपने फैसले में पीड़िता की पीड़ा को बड़े ही मार्मिक शब्दों में बयां किया था.

कोर्ट ने कहा यह अपराध समाज की आत्मा को उद्वेलित करने वाला है
अपर सेशन न्यायाधीश शिल्पा समीर ने अपने इस अहम फैसले में कहा था कि रेपिस्ट का यह अपराध नृशंस ही नहीं है, बल्कि पूरे समाज को प्रभावित करने वाला है. यह अपराध समाज की आत्मा को उद्वेलित करने वाला है. उन्होंने कहा कि यह एक ऐसी घटना है जिसको सोचकर अहसास नि:शब्द हो जाते हैं. भावनाएं खामोश हो जाती हैं. यह अपराध की दुर्लभतम घटनाओं में से एक है. इसमें अभियुक्त को मृत्युदंड के अलावा कोई और दंड दिया ही नहीं जा सकता.

जयपुर: मासूम से रेप कर हत्या करने वाले रेपिस्ट को कोर्ट ने दिया मृत्युदंड

Tonk Rape and Murder Case: मासूम को टॉफी का लालच देकर साथ ले गया था रेपिस्ट

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज