Home /News /rajasthan /

उदयपुर के नेत्रहीन बालक ने अपने बुलंद हौंसले से लिखी संगीत की नई इबारत

उदयपुर के नेत्रहीन बालक ने अपने बुलंद हौंसले से लिखी संगीत की नई इबारत

अनुराग। फोटो: न्यूज 18 राजस्थान

अनुराग। फोटो: न्यूज 18 राजस्थान

झीलों की नगरी उदयपुर के एक 14 वर्षीय एक नेत्रहीन बालक ने अपने बुलंद हौंसले के आगे सभी को दांतों तले उंगली दबाने पर मजबूर कर दिया है. प्रकृति के क्रूर को मजाक झेल रहा ये मासूम बालक नेत्रहीन होते हुए अपने जज्बे से हौंसले की उड़ान भर रहा है.

अधिक पढ़ें ...
    झीलों की नगरी उदयपुर के एक 14 वर्षीय एक नेत्रहीन बालक ने अपने बुलंद हौंसले के आगे सभी को दांतों तले उंगली दबाने पर मजबूर कर दिया है. प्रकृति के क्रूर को मजाक झेल रहा ये मासूम बालक नेत्रहीन होते हुए अपने जज्बे से हौंसले की उड़ान भर रहा है.

    उदयपुर के मल्लातलाई स्थित अंध विद्यालय की कक्षा 9वीं में पढ़ने वाला अनुराग जन्म से दृष्टिहीन है. लेकिन अनुराग ने इसे कभी भी अपनी कमजोरी नहीं माना और जीवन में कुछ कर गुजरने की ठानी. अब अनुराग उदयपुर के मशहूर नन्हें सिंगर में से एक है, जो अपनी सुरीली आवाज से कई स्टेज शो की शोभा बढ़ा चुका है. अनुराग जब चार साल का था और दिखाई नहीं देने के चलते उनके पांव से पड़ोसी की एक मटकी फूट गई थी. ऐसे में पड़ोसी ने उसे छत से उल्टा लटका दिया और फिर उसे और उसके माता पिता को जमकर खरी खोटी सुनाई. चार वर्ष की उम्र भले ही खेलने कूदने की हो, लेकिन इस घटना ने  अनुराग झकझौर कर रख दिया. उसने तभी से संगीत की क्लास शुरू कर दी. धीरे धीरे अनुराग ने अपने मजबूत हौंसले के साथ केसियो बजाने में महारत हासिल की.

    भगवान ने भले ही अनुराग को जन्म से आंखें नहीं दी हो, लेकिन उसने अपनी शक्ति के रूप में अपनी हाथ की उंगलियों को चुना है. यही वजह है कि अनुराग अपनी करिश्माई उंगलियों से सैकड़ों धुनें बजाकर लोगों को अपनी और आकर्षित कर रहा है. अपनी गायकी और केसियो बजाने की कला के चलते इस नन्हे कलाकार के कद्रदानों की शहर में कमी नहीं है. अनुराग जब अपने मन से गाता और बजाता है तो लोग उसकी काबिलियत, इच्छाशक्ति और हौंसले की सराहना करते नहीं थकते. अनुराग को लोग जब केसियो बजाते देखते हैं तो उनकी आंखों से खुशी के आंसू छलक जाते हैं.

    अनुराग के पिता संतोष पासवान ने बताया कि अनुराग के साथ उसकी बहन भी दृष्टिहीन है. इस वजह से उन्हें कई परेशानियों का सामना करना पड़ा. अनुराग और उसके पिता को इसके चलते कई बार सामाजिक प्रताड़ना का शिकार भी होना पड़ता था। लेकिन जब उनका होनहार बेटा किसी कार्यक्रम में स्टेज पर अपनी प्रस्तुति देता है तो उनका सीना गर्व से चौड़ा हो जाता है. अनुराग अब तक 50 से ज्यादा स्टेज शो कर चुका है.

    Tags: Rajasthan news, Udaipur news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर