लाइव टीवी

ACB का खुलासा: 18 साल में इस हेड कांस्टेबल ने 20 गांवों में बना डाली 2.66 करोड़ की संपत्ति

Kapil Shrimali | News18 Rajasthan
Updated: January 13, 2020, 4:48 PM IST
ACB का खुलासा: 18 साल में इस हेड कांस्टेबल ने 20 गांवों में बना डाली 2.66 करोड़ की संपत्ति
हेड कांस्टेबल मालीराम चौधरी को गत वर्ष 5 सितंबर को ब्यूरो ने 11 हजार रुपए रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार किया था.

उदयपुर (Udaipur) में करीब पांच माह पहले भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (Anti Corruption Bureau) द्वारा ट्रैप किए गए राजस्थान पुलिस (Rajasthan Police) के हेड कांस्टेबल (Head constable) की संपत्ति की जांच में चौंकाने (Surprising) वाले तथ्य सामने आए हैं. उसकी संपत्ति (Property) उसकी अब तक की कुल आय से करीब छह गुना ज्यादा (Six times more) सामने आई है.

  • Share this:
उदयपुर. करीब पांच माह पहले भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (Anti Corruption Bureau) द्वारा ट्रैप किए गए राजस्थान पुलिस (Rajasthan Police) के हेड कांस्टेबल (Head constable) की संपत्ति की जांच में चौंकाने (Surprising) वाले तथ्य सामने आए हैं. जांच में हेड कांस्टेबल की संपत्ति (Property) उसकी अब तक की कुल आय से करीब छह गुना ज्यादा (Six times more) सामने आई है. हेड कांस्टेबल ने 18 साल की नौकरी में 2.66 करोड़ रुपये की संपत्ति बना डाली. जांच में उसकी उदयपुर शहर (Udaipur City) और 20 गांवों (villages) में संपत्तियां पाई गई हैं. ब्यूरो ने अब हेड कांस्टेबल मालीराम चौधरी के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति का मामला भी दर्ज कर लिया है.

18 साल में करीब 42 लाख रुपये सैलरी मिली
ब्यूरो के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सुधीर चौधरी ने बताया कि उदयपुर के गोगुंदा थाने में तैनात हेड कांस्टेबल मालीराम चौधरी को गत वर्ष 5 सितंबर को ब्यूरो ने 11 हजार रुपये रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार किया था. उसने यह रिश्वत थाने में दर्ज एक मामले में राजीनामा करवाने के लिए ली थी. उसके बाद ब्यूरो ने जब मामले की पूरी जांच की तो उसकी आंखें फटी की फटी रह गईं. मालीराम चौधरी को उसकी 18 साल नौकरी के दौरान करीब 42 लाख रुपये सैलरी मिली थी, जबकि उसके पास 2.66 करोड़ रुपये की संपत्ति पाई गई है. यह डीएलसी रेट के अनुसार है. इसका बाजार मूल्य इससे कहीं अधिक है. मालीराम की यह संपत्ति उदयपुर और आसपास के 20 गांवों में है.

ब्यूरो की जांच में हेड कांस्टेबल मालीराम मिली संपत्ति का ब्योरा

- कृषि भूमि और कई भूखंडों के दस्तावेज मिले हैं. इनका डीएलसी मूल्य 2,56,54,281 रुपये है.
- उदयपुर के न्यू केशव नगर में मकान निर्माण पर मालीराम ने करीब 30 लाख रुपये खर्च किए हैं.
- मकान में फर्नीचर और अन्य साजो सामान - 1,83,790 रुपये.- पुलिस विभाग में 7 नवंबर 2001 को मालीराम की नियुक्ति हुई थी.
- उस समय उसकी सम्पत्ति शून्य बताई गई थी.
- 18 साल में पुलिस नौकरी से हुई कुल सकल आय 42.24 लाख रुपये.

ब्यूरो ने जांच में अब ये तथ्य भी किए शामिल
मालीराम चौधरी जब ब्यूरो के हत्थे चढ़ा था तब से ही उसकी संपत्तियों को खंगालने का भी काम शुरू किया गया था. संपत्ति के मिलान में करोड़ों की अघोषित संपत्ति का खुलासा हुआ है. ब्यूरो ने अब मालीराम के खिलाफ पद का दुरुपयोग, अनुसूचित जनजाति के लोगों को डरा धमकाकर उनके खेत-जमीन का अपने नाम इकरारनामे कराने और मामूली रकम देकर लोगों की जमीन अपने और अपने विश्वासपात्रों के नाम खरीदने के तथ्यों को भी अपनी रिपोर्ट में शामिल किया है.

यह भी पढ़ें :-

बीकानेर: न्याय की गुहार लेकर पत्नी के शव के साथ कलक्ट्रेट पहुंचा पति

दहशत में भरतपुर: नदबई में हिस्ट्रीशीटर को थाने के पास गोलियों से भूना

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए उदयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 13, 2020, 4:09 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर