Udaipur: विद्युत निगम का उपभोक्ताओं को तगड़ा झटका, सामान्य घर का थमाया 2.5 लाख रुपये का बिल
Udaipur News in Hindi

Udaipur: विद्युत निगम का उपभोक्ताओं को तगड़ा झटका, सामान्य घर का थमाया 2.5 लाख रुपये का बिल
अधिकारी अपनी गलती मानने के बजाय इन्हें माइनर डिफरेंस कहकर नजरंदाज कर रहे हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

अजमेर विद्युत वितरण निगम लिमिटेड (Ajmer Vidyut Vitran Nigam Limited) इस बार उपभोक्ताओं को झटके पर झटके दे रहा है. उदयपुर (Udaipur) में वह सामान्य घरों के बिल भी हजारों रुपयों के भेज रहा है. निगम ने एक घरेलू उपभोक्ता को तो ढाई लाख रुपये बिल भेज डाला.

  • Share this:
उदयपुर. लॉकडाउन (Lockdown) खत्म होने के बाद अब अनलॉक (Unlock) में विद्युत निगम ताबड़तोड़ बिलिंग कर बिजली उपभोक्ताओं को झटके पे झटके दे रहा है. अजमेर विद्युत वितरण निगम लिमिटेड (Ajmer Vidyut Vitran Nigam Limited) की ओर से इस बार उपभोक्ताओं को जारी किए गए बिल देखकर उपभोक्ताओं को चक्कर आने लगे हैं. उनकी रातों की नींद उड़ गई है और बिलों को लेकर निगम ऑफिस चक्कर लगा रहे हैं. विद्युत निगम ने घरेलू उपभोक्ता को तो ढाई लाख का बिल भेजकर उसके होश उड़ा दिये हैं. मजे की बात तो यह है कि इन उपभोक्ताओं के वर्तमान बिल से पिछले बिलों की तुलना की जाए तो पता चलता है कि उनके यहां बिजली की मामूली खपत होती है.

वेतन कटौती के बाद गहलोत सरकार का कर्मचारियों को एक और झटका, अब पेड लीव पर भुगतान नहीं

एक घर खपत 28 हजार यूनिट बताई
उदयपुर शहर के पायड़ा इलाके में रहने वाले विनोद जैन के घर का इस बार बिजली का बिल 2 लाख 53 हजार 881 रुपये आया है. बिजली के बिल को देख जैन को इतना जोर का झटका लगा कि वे शिकायत लेकर सीधे निगम के ऑफिस पहुंच गये. लेकिन उन्हें वहां मायूसी ही हाथ लगी. जैन के घर में कूलर-पंखे और लाइट से ज्यादा बिजली का कुछ भी उपयोग नहीं होता है. यहीं नहीं जैन के हर 2 माह में 400 यूनिट से ज्यादा बिजली की खपत कभी नही हुई. लेकिन इस बार निगम ने 28 हजार यूनिट की खपत बता कर जैन को 2 लाख 53 हजार से ज्यादा का बिल थमा दिया.
एक कमरे का बिल 10 हजार रुपये


उदयपुर की रामपुरा कच्ची बस्ती में एक कमरे में रहने वाली वृद्धा दाखु लौहार को भी बिजली विभाग ने 10 हजार वॉल्ट का झटका दिया है. दाखु के 10 गुना 8 स्क्वायर फीट के टापरेनुमा कमरे में एक बल्ब और पंखा ही चलता है. उसके आस-पड़ोस में होने के चलते अक्सर घर पर ताला ही लगा रहता है. छोटे-मोटे कामों से घर चलाने वाली दाखु लोहार को भी बिजली निगम ने 10 हजार रुपयों का बिल भेजकर उसके होश उड़ा दिए हैं. दाखु लोहार के अब तक 2 महीने में मात्र 200 या 300 रुपये का बिजली बिल आता रहा, लेकिन इस बार एक साथ 10 हजार का बिजली बिल आने से उसके पैरों के नीचे से जमीन खिसक गई है. यही हाल उदयपुर के सेक्टर 14 इलाके के रहने वाले कृष्णस्वरूप ओझा का है. ओझा ने बताया कि अमूमन उनके 400 यूनिट दो माह में खर्च होते हैं. उसका बिल 4 हजार रुपये प्रति दो माह में आता है. लेकिन इस बार 2300 यूनिट की खपत बताकर विद्युत निगम उनको 16 हजार का बिल थमा दिया.

Rajasthan: गहलोत सरकार के खजाने की क्यों बिगड़ी सेहत ? यहां पढ़ें पूरी इनसाइड स्टोरी

अधिकारी इन्हें माइनर डिफरेंस कहकर नजरंदाज कर रहे हैं
इन सब के बीच विद्युत निगम के अधिकारी अपनी गलती मानने के बजाय इन्हें माइनर डिफरेंस कहकर नजरंदाज कर रहे हैं. विभाग के अधिकारी इसे सम्भावित मामूली गलती जरूर बता रहे है लेकिन बिल की रीडिंग को लेकर वे पूरी तरह आश्वस्त हैं. निगम के एसई गिरीश जोशी ने साफ किया कि मीटर जितनी रीडिंग दे रहा है उस हिसाब से बिल बनाये गए हैं. जोशी ने बिजली की बढ़ी कीमतों का हवाला देकर उपभोक्ताओं की इस परेशानी को दूर करने के लिए परामर्श शिविर लगाने की बात कही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज